आखिर क्यों सहम गए आधी रात को शिमला के लोग?

  • आखिर क्यों सहम गए आधी रात को शिमला के लोग?
You Are HereNational
Monday, April 07, 2014-2:03 PM

शिमला: पश्चिम विक्षोभ के फिर से सक्रिय होने के कारण प्रदेश में रविवार को बादल छाए रहे। बताया जा रहा है कि रात करीब दस बजे के बाद अचानक मौसम बिगड़ गया। इसके बाद तेज हवाओं के साथ बिजली चमकने लगी। तेज हवाओं के कारण न सिर्फ कई स्‍थानों पर पेड़ों की शाखाएं टूट गई बल्कि कई दुकानों की छतों को भी नुक्सान हुआ है। जिससे की वहां रहने वाले लोग सहम गए। कई इलाकों में गरज के साथ छींटे पडऩे की भी सूचना भी प्राप्त हुई। मौसम में आए इस बदलाव के चलते हालांकि न्यूनतम व अधिकतम तापमान में किसी तरह का प्रर्याप्त बदलाव दर्ज नहीं किया गया।

मौसम विभाग के अनुसार 7 अप्रैल को प्रदेश के मध्यम व ऊंचे पर्वतीय क्षेत्रों में कई स्थानों पर बारिश व बर्फबारी की संभावना है। 8 अपै्रल को भी यह क्रम जारी रहेगा। वहीं निचले व मैदानी इलाकों में कुछ स्थानों पर गरज के साथ छींटे पडऩे की संभावना है। मौसम विभाग ने आगामी 9 अप्रैल से मौसम के साफ रहने की संभावना जताई है। वहीं रविवार को शिमला सहित प्रदेश के अधिकतर क्षेत्रों में आसमान पर घने बादल छाए रहे। कांगड़ा में कुछ स्थानों पर हल्की बुंदाबांदी तथा जिला लाहौल स्पीति में हल्की बर्फबारी हुई।

रविवार को शिमला का न्यूनतम तापमान 13.1 व अधिकतम 23.9, सुंदरनगर 9.4 व 29.6, भुंतर 8.0 व 26.0, कल्पा 4.0 व 17.0, धर्मशाला 11.4 व 23.4, पालमपुर 17.3 , चंबा 9.4, डल्हौजी 10.6, कांगड़ा 12.0, बिलासपुर 11.6, मंडी 12.0 दर्ज किया गया। भरमौर में सबसे कम माइनस 2.1 डिग्री सैल्सियस तापमान दर्ज किया गया और ऊना सबसे गर्म रहा। यहां का अधिकतम तापमान 31.0 डिग्री सैल्सियस रहा।
 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You