बेटे को इंसाफ दिलाने के लिए कोर्ट में लगाई गुहार

  • बेटे को इंसाफ दिलाने के लिए कोर्ट में लगाई गुहार
You Are HereNational
Monday, April 07, 2014-2:07 PM

नई दिल्ली (कृष्ण कुणाल सिंह): दिल्ली पुलिस से 11 महीनों से अपने बेटे के मौत के लिए इंसाफ की मांग कर रहे पीड़ित पिता को जब इंसाफ नहीं मिला, तब हारकर उन्होंने हाईकोर्ट की शरण ली। कोर्ट ने पीड़ित पिता की याचिका पर सुनवाई करते हुए दिल्ली पुलिस को मामले को ठंडे बस्ते में डालने के लिए जहां कड़ी फटकार लगाई, वहीं न्यायमूॢत वीना बीरबल ने आरोपियों को नोटिस जारी कर कोर्ट में पेश होने का आदेश दिया है। कोर्ट में अगली सुनाई 12 मई को होनी है।


जानकारी के अनुसार रियाजुद्दीन (52) अपने परिवार के साथ आर.जे.ड.-63ए/348 जगदंबा विहार वेस्ट सागर में रहते हैं। उनका एक बेटा फकरुद्दीन (27) था जो कि सागरपुर ईस्ट में शेख इलैक्ट्रॉनिक्स दुकान में रिपेरिंग का काम करता था। वह 27 अप्रैल 2013 को वह दुकान मालिक के आदेश पर ए.सी. ठीक करने के लिए अपने एक सहयोगी शहनवाज के साथ करोलबाग गया था लेकिन जैसे ही उसने ए.सी. बनाने के लिए नट खोला ए.सी. में ब्लास्ट हो गया और फकरुद्दीन और शहनवाज घायल हो गए थे।


पुलिस की मानें तो फकरुद्दीन की मौके पर ही मौत हो गई थी लेकिन पुलिस ने रियाजुद्दीन को बिना सूचना दिए ही मौलाना आजाद मैडीकल अस्पताल में शव का पोस्टमार्टम करा दिया। यही नहीं पुलिस ने बिना एम.एल.सी. के ही शव का पोस्टमार्टम कर दिया। हद तो तब हो गई जब पुलिस ने लापरवाही का परिचय देते हुए 2 महीने तक कोई एफ.आई.आर. ही दर्ज नहीं किया।

2 महीने तक रियाजुद्दीन को थाने का चक्कर लगवाते रहे। आखिर 2 महीने बाद 26 जून, 2013 को अपने हिसाब से एफ.आई.आर. दर्ज की गई। इस बात से नाखुश पीड़ित ने अपने बेटे को न्याय दिलाने के लिए पूर्व कमिश्नर नीरज कुमार, स्पैशल सी.पी. लॉ एंड आर्डर दीपक मिश्रा, डी.सी.पी. विजीलैंस, डी.सी.पी. दरियागंज व मानवाधिकार को लिखित शिकायत दी, ताकि दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई हो, उनके मृतक बेटे को न्याय मिल सके लेकिन पिछले 11 महीने तक पुलिस इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की।


तब रियाजुद्दीन ने 31 मार्च को हाईकोर्ट की शरण ली। कोर्ट ने इस मामले पर 4 अपै्रल पर सुनवाई करते हुए दिल्ली पुलिस के आलाधिकारियों को मामले में देरी करने के लिए फटकार लगाते हुए जल्द से जल्द कार्रवाई करने की बात कही। वहीं, मामले में आरोपी भगमल ककड़ सन्नी बग्गा व मो. आरिफ को नोटिस भेज 12 मई को कोर्ट में पेशी का आदेश दिया है।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You