दिल्ली सहित 11 राज्यों में थमा चुनाव प्रचार

  • दिल्ली सहित 11 राज्यों में थमा चुनाव प्रचार
You Are HereNational
Wednesday, April 09, 2014-11:35 AM

नई दिल्ली: लोकसभा चुनावों में मतदान के लिए कुछ ही दिन रह गए हैं और सभी राजनीतिक दलों के नेताओं की धड़कने इसी के साथ तेज हो गई हैं कि इस बार के नतीजे क्या होेंगे। जनता किसे तख्त पर बिठाएगी और किसका तख्ता पलट होगा। ये सब तो नतीजों के बाद ही पता चलेगा। सभी दलों के नेताओं ने अपने स्टार प्रचारकों के साथ मिल चुनाव प्रचार भी खूब किया है। फिलहाल दिल्ली समेत 11 राज्यों में आदर्श आचार संहिता के तहत चुनाव आयोग ने अब चुनाव प्रचार पर रोक लगा दी है।

चुनाव आयोग ने इन राज्यों पर लगाई रोक-

हरियाणा

हरियाणा की सभी 10 लोकसभा सीटों के लिए हो रहा चुनावी शोरगुल कल थम गया। इन सीटों में अंबाला( सु), हिसार, सिरसा(सु), कुरूक्षेत्र, करनाल, भिवानी महेन्द्रगढ़, गुडगांव, यमुनानगर, रोहतक और सोनीपत सीटों पर कड़ी सुरक्षा के बीच 10 अप्रैल को मतदान होगा। इंडियन नेशनल लोकदल, कांग्रेस, भाजपा-हरियाणा जनहित कांग्रेस गठबंधन, बहुजन समाज पार्टी, आम आदमी पार्टी सहित चुनाव मैदान में उतरे कुल 230 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला होगा। इनमें मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा के पुत्र एवं निवर्तमान सांसद दीपेन्द्र हुड्डा, भाजपा के राव इंद्रजीत सिंह, ओपी धनकड़, हरियाणा जनहित कांग्रेस के अध्यक्ष कुलदीप बिश्नोई, आम आदमी पार्टी के योगेन्द्र यादव प्रमुख हैं।

बिहार
बिहार में 40 संसदीय क्षेत्रों में से जिन 06 सीटों पर पहले चरण में 10 अप्रैल को मतदान होना है वहां कल शाम चुनाव प्रचार समाप्त हो गया। 16वीं लोकसभा के लिए राज्य की जिन 06 संसदीय सीटों पर 10 अप्रैल को पहले चरण में मतदान होगा उनमें सासाराम (सु), काराकाट, औरंगाबाद, गया (सु), नवादा और जमुई (सु) संसदीय क्षेत्र शामिल हैं। इन क्षेत्रों में लोकसभा की अध्यक्ष मीरा कुमार (सासाराम:सु), बिहार विधानसभा के अध्यक्ष उदय नारायण चौधरी (जमुई)सु),केरल के पूर्व राज्यपाल निखिल कुमार (औरंगाबाद),राज्य के अनुसूचित जाति-जनजाति कल्याण मंत्री जीतन राम मांझी (गया (सु), लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष चिराग पासवान (जमुई (सु), पूर्व केन्द्रीय मंत्री कांति सिंह (काराकाट),पूर्व मंत्री गिरिराज सिंह (नवादा), छेदी पासवान (सासाराम) और राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) के उपेन्द्र कुशवाहा (काराकाट) की प्रतिष्ठा दाव पर लगी है।

दिल्ली
लोकसभा चुनावों के तीसरे चरण में दिल्ली की सात सीटों पर मतदान के लिए चुनाव आयोग ने सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं, चुनाव प्रचार समाप्त होने के बाद उम्मीदवार घर-घर जाकर लोगों को लुभाने का प्रयास शुरू कर देंगे। दिल्ली के मुख्य चुनाव अधिकारी विजय देव ने बताया कि राज्य के एक करोड़ 27 लाख छह हजार 372 मतदाता आगामी गुरुवार को 150 उम्मीदवारो के भाग्य का फैसला करेंगे। मतदाताओं में 70 लाख 47 हजार 885 पुरुष, 56 लाख 57 हजार 648 महिलाएं तथा 839 अन्य हैं। सबसे ज्यादा 29 उम्मीदवार नई दिल्ली लोकसभा सीट पर हैं जबकि सबसे कम 14 उम्मीदवार उत्तर पश्चिमी दिल्ली सीट पर हैं। राष्ट्रीय राजधानी में लोकतांत्रिक महायज्ञ को सम्पन्न कराने के लिए चुनाव आयोग ने 93 हजार कर्मचारियों को ड्यूटी पर लगाया है।

उत्तर प्रदेश
दंगों का वीभत्स रूप दे चुके मुजफ्फरनगर और उसके निकटवर्ती इलाकों में उत्तर प्रदेश की दस लोकसभा सीटों के लिए हो रहा चुनाव प्रचार थम गया। इन सीटों सहारनपुर, कैराना, मुजफ्फरनगर, बिजनौर, मेरठ, बागपत, गाजियाबाद, गौतमबुद्ध नगर, बुलन्दशहर (सु) और अलीगढ़ पर कड़ी सुरक्षा के बीच दस अप्रैल को मतदान होगा। राष्ट्रीय लोकदल के अध्यक्ष चौधरी अजित सिंह, भाजपा विधानमंडल दल के नेता हुकुम सिंह, पूर्व सेनाध्यक्ष जनरल वी के सिंह, फिल्मी कलाकार राज बब्बर, मशहूर अदाकारा जयाप्रदा और नगमा समेत 146 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला इस चरण में होगा। इन दस सीटों में सन 2009 के चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के साथ गठबंधन कर चुनाव लड़ चुके राष्ट्रीय लोकदल के पास तीन, बसपा के पास चार, भाजपा से दो और सपा से एक सांसद थे।

मध्यप्रदेश
मध्यप्रदेश के 29 संसदीय क्षेत्रों दस अप्रैल को मतदान होना है और इन इलाकों में चुनावी शोरगुल थम जाएगा। राज्य के सतना, रीवा, सीधी, शहडोल, जबलपुर, मंडला, बालाघाट, छिंदवाडा और होशंगाबाद संसदीय क्षेत्रों में आज चुनाव प्रचाकर थम जाएगा। इसके बाद प्रत्याशी सिर्फ जनसंपर्क के जरिए मतदाताओं तक पहुंच सकते हैं। पहले चरण में नौ संसदीय क्षेत्रों में कुल 118 प्रत्याशियों की किस्मत दाव पर लगी है। इन क्षेत्रों में मतदान दस अप्रैल को सुबह सात बजे से शाम छह बजे तक होगा। मतदान के समय में एक घंटे की वृद्धि की गई है। वहीं नक्सली प्रभावित बालाघाट संसदीय क्षेत्र के परसवाडा, लांजी और बैहर में मतदान सुबह सात बजे से शाम चार बजे तक चलेगा।

झारखंड
 झारखंड में प्रथम चरण में चार लोकसभा सीटों के चुनाव के लिए चुनाव प्रचार समाप्त हो गया। राज्य के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी पी.के. जाजोरिया ने यहां बताया कि झारखंड में प्रथम चरण में चतरा, कोडरमा, लोहरदगा (सु) और पलामू (सु)क्षेत्र में शाम चार बजे चुनाव प्रचार समाप्त हो गया। अब बिना किसी शोरगुल के उम्मीदवार घर-घर जाकर मतदाताओं से मिलेंगे। उन्होंने बताया कि इन क्षेत्रों में दस अप्रैल को सुबह सात बजे से शाम चार बजे तक मतदान होगा। इन चार क्षेत्रों में कुल 62 उम्मीदवार हैं और 56 लाख से अधिक मतदाता 7058 मतदान केन्द्र अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे।

तिरूवनंतपुरम
तिरूवनंतपुरम में 10 अप्रैल को मतदान होना है जिसके चलते यहां चुनाव प्रचार का  समाप्त हो गया। प्रचार के अंतिम दिन आज यहां भाजपा के कद्दावर नेता लाल कृष्ण आडवाणी ने जनसभा को संबोधित किया।

अरूणाचल प्रदेश
अरूणाचल प्रदेश में लोकसभा की दो और राज्य विधानसभा की 60 सीटों के लिए चुनाव प्रचार अभियान सोमवार दोपहर समाप्त हो गया। अरूणाचल पूर्व और अरूणाचल पश्चिम संसदीय सीटों के लिए कुल मिलाकर 11 उम्मीदवार मैदान में हैं। इस बार सबसे दिलचस्प बात यह है कि लोकसीभ सीटों पर हो रहे चुनाव में कोई महिला प्रत्याशी नहीं है। कांग्रेस प्रत्याशियों के समर्थन में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी, बॉलीवुड अभिनेता रजा मुराद और असरानी ने प्रचार किया जबकि भाजपा उम्मीदवारों का प्रचार पार्टी के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने किया।

नागालैंड
नागालैंड की एकमात्र लोकसभा सीट के लिए चुनाव प्रचार सोमवार को शाम चार बजे समाप्त हो गया। इस सीट के लिए नौ अप्रैल को मतदान सुबह सात बजे शुरू होगा और चार बजे तक चलेगा। इस सीट पर कांग्रेस के के.वी.पूसा, डेमोक्रेटिक अलायंस आफ नागालैंड (डीएएन) के सर्वसम्मति से उम्मीदवार नेफियो रियो और सोशलिस्ट पार्टी (इंडिया) के अखेई अछुमी अपनी किस्मत आजमा रहे हैं।


मिजोरम, मेघालय और मणिपुर

मिजोरम और मेघालय की मात्र एक-एक तथा मणिपुर की दो लोकसभा सीटों में से एक पर चुनाव तथा मिजोरम के रंगतुरजो विधानसभा उपचुनाव के लिए आज प्रचार अभियान समाप्त हो गया। इन सीटों पर नौ अप्रैल को मतदान होगा। मिजोरम की एकमात्र लोकसभा सीट पर सत्तारूढ़ कांग्रेस, आम आदमी पार्टी तथा यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट के बीच त्रिकोणीय मुकाबला होगा। उधर मेघालय की एकमात्र सीट के लिए भी सोमवार को चुनाव प्रचार समाप्त हो गया।

केरल
केरल में 10 अप्रैल को होने वाले लोकसभा चुनाव के लिए चुनाव प्रचार आज थम जाएगा तथा बड़े नेताओं ने अपनी पार्टी के उम्मीदवारों के पक्ष में प्रचार तेज कर दिया है। राज्य की 20 सीटों पर कांग्रेस नीत यूडीएफ और माकपा नीत एलडीएफ के प्रत्याशियों के बीच कड़ी टक्कर है। राज्य में अभी तक कभी सफलता हासिल नहीं कर पाई भाजपा ने प्रदेश की विभिन्न सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं और राज्य की राजधानी में त्रिकोणीय मुकाबला बनाने का प्रयास किया है। इस बार केरल से चुनाव मैदान में उतरने वाले प्रमुख प्रत्याशियों में छह केन्द्रीय मंत्री शशि थरूर, के, सुरेश, के सी वेणुगोपाल, के.वी. थामस, एम रामचन्द्रन (सभी कांग्रेस) और ई अहमद (आईयूएमएल) शामिल हैं।

 

माकपा के मौजूदा सांसद ए संपत, एम बी राजेश, पीके बीजू और पी करूणाकरण उन्हीं सीटों से फिर चुनाव मैदान में उतरे हैं जहां से 2009 में उन्होंने सफलता पाई थी। यूडीएफ के प्रख्यात प्रत्याशियों में पूर्व केन्द्रीय मंत्री एम पी वीरेन्द्र कुमार हैं जो पल्लकड़ में माकपा के राजेश के खिलाफ उतरे हैं। एलडीएफ के प्रमुख उम्मीदवारों में माकपा पोलित ब्यूरो के सदस्य एवं पूर्व मंत्री एम ए बेबी शामिल हैं जो कोल्लम में आरएसपी के एन के प्रेमचन्द्रन के खिलाफ उतरे हैं।

 

एलडीएफ ने पांच निर्दलियों को समर्थन दिया है जिनमें वरिष्ठ सिने अभिनेता इनोसेंट शमिल हैं जो कांग्रेस नेता पी,सी, चाको के खिलाफ चालाक्कुडी में उतरे हैं। भाजपा ने तिरूवनंतपुरम से पूर्व केन्द्रीय मंत्री ओ राजगोपाल को उतारा है, जो थरूर और भाकपा के बेनेट अब्राहम का मुकाबला करेंगे। आम आदमी पार्टी ने अपने 15 उम्मीदवार उतारे हैं, जिनमें प्रख्यात लेखिका एवं सामाजिक कार्यकर्ता सारा जोसेफ (त्रिशूर) और पत्रकार अनीता प्रताप (एर्णाकुलम) शामिल हैं।

चंडीगढ़
चंडीगढ़ की एकमात्र लोकसभा सीट के लिए 10 अप्रैल को होने चुनाव के लिए प्रचार का शोरगुल  मंगलवार को  सायं 6 बजे थम गया। अब प्रत्याशी प्रचार के लिए न तो माइक और साउंड सिस्टम का इस्तेमाल और न ही जनसभाएं और रैलियां कर सकेंगे। उन्हें केवल घर-घर जाकर ही प्रचार और लोगों से वोटों की गुहार करने इजाजत होगी। चंडीगढ़ में हालांकि कुल 17 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं जिनमें पांच महिला प्रत्याशी हैं। यह पहली बार है जब इस सीट पर इतनी महिला प्रत्याशी हैं।

 

चंडीगढ़ सीट के लिए मुख्य रूप से मुकाबला कांग्रेस के निवर्तमान सांसद और पूर्व रेल मंत्री पवन कुमार बंसल और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की किरण खेर और आम आदमी पार्टी (आप) की गुल पनाग के बीच है। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) प्रत्याशी जन्नत जहां भी यहां से चुनाव मैदान में हैं।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You