राक्षसों के मनोरंजन का साधन है गरबा : सूफी इमाम

  • राक्षसों के मनोरंजन का साधन है गरबा : सूफी इमाम
You Are HereTop News
Tuesday, September 23, 2014-11:08 AM

अहमदाबाद: गुजरात के एक सूफी इमाम ने नवरात्रि के दौरान होने वाले गरबा कार्यक्रम को लेकर विवादास्पद बयान दिया है। सूफी इमाम मेहदी हुसैन का कहना है कि गरबा को राक्षसों ने अपने कब्जे में ले लिया है और यह उनके मनोरंजन का साधन है। उन्होंने कहा कि गरबा में साधु और संत नजर नहीं आते, बल्कि इसमें तो लोग भड़काऊ कपड़ों में नाचते नजर आते हैं। इमाम ने कहा कि गरबा आयोजनों में मुस्लिमों की एंट्री बैन करने जैसी बातें करना क्या ठीक है? 

दरअसल, गोधरा में एक हिंदू संगठन ने गरबा आयोजकों को ऐसे समारोह में मुस्लिम युवकों के आने पर रोक लगाने का फरमान सुनाया था। इमाम के इस बयान की आलोचना करते हुए विश्व हिंदू परिषद ने उनकी गिरफ्तारी की मांग की है। बता दें कि 2011 में इन इमाम ने ही नरेंद्र मोदी को मुस्लिम टोपी पहनने को दी थी, जिसे मोदी ने पहनने से इंकार कर दिया था।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You