ऑनलाइन शॉपिंग पर भी पड़ा नोटबंदी का असर, 25% गिरावट

  • ऑनलाइन शॉपिंग पर भी पड़ा नोटबंदी का असर, 25% गिरावट
You Are HereChandigarh
Thursday, November 17, 2016-2:04 PM

चंडीगढ़ : 500 और 1,000 नोटों के बंद होने के बाद बढ़ते ई-कॉमर्स बिज़नेस पर गहरा असर पड़ा है। जो ई-कॉमर्स बिज़नेस  फेस्टिवल सीजन में 2 बिलियन बिक्री किया करता था अभी फिलहाल के लिए मंदी का सामना कर रहा है। विभिन्न अनुमानों के अनुसार 500 और 1,000 के नोटों के बंद होने के बाद ऑनलाइन सेल्स में 25 % से 30 % की गिरावट आयी है इससे सबसे ज्यादा असर कैश ऑन डिलीवरी पर पड़ा हैं। सूत्रों के अनुसार ऑनलइन ट्रांसक्शन में सबसे ज्यादा कैश ऑन डिलीवरी ही अपनाया जाता हैं। देश को इस समय नकदी की कमी का सामना करना पड़ रहा हैं इसमें सबसे ज्यादा चौका देने वाली बात यह है की 40 % से ऊपर के हाई वैल्यू आइटम्स कैश ऑन डिलीवरी से मंगाए जाते हैं जिन्हें इस समय बिलकुल नज़रअंदाज़ कर दिया हैं। 

 

शॉपकलुएस की को-फाउंडर राधिका अग्रवाल का कहना है कि हमारी साइट पर 15 % ट्रैफिक काम हुआ हैं और लोग ज्यादातर सस्ते प्रोडक्ट्स की खरीद रहे हैं। फ्लिपकार्ट के एक प्रवक्ता ने कहा कि हमारी वेब साइट पर कैश ऑन डिलीवरी में 50% से 70% की गिरावट आयी हैं। इ-कॉमर्स में काम करने वालों ज्यादातर लोगों ने कहां की यह तो सिर्फ शुरआत है। ज्यादातर लोग शॉपिंग करने के बाद पेमेंट देते है, पर अब तो नोटों को ही हटा दिया गया है तो ऐसे में यह तो होना लाजमी ही हैं। ज्यादातर कंपनियों ने अपने अपने डिलीवरी बॉयज को कार्ड स्वाइप मशीनें दी हैं और मोबाइल वॉलेट्स-न-डिलीवरी शुरू की है, लेकिन केवल उन के इस कदम को कम लोगों ने अपनाया है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You