चीनी मीडिया ने किया भारत के सेना प्रमुख का अपमान

You Are HereNational
Friday, September 08, 2017-2:55 PM

बीजिंग:ब्रिक्स सम्मेलन के बाद भारत और चीन के संबंध पटरी पर आए ही थे कि इसी बीच चीनी मीडिया ने भारत के सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत का अपमान किया है। दरअसल चीन रावत के बयान से तिलमिलाया हुआ है। 
PunjabKesariचीन और भारत के बीच दुश्मनीभरा माहौल पैदा कर सकते हैं रावत
चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने अपने एडीटोरियल में सेना प्रमुख का अपमान करते हुए कहा है," रावत इतने बड़बोले हैं कि वे चीन और भारत के बीच दुश्मनीभरा माहौल पैदा कर सकते हैं। इनका घमंड भारत की इमेज पर धब्बा है।" चीनी मीडिया ने गुरुवार को Rawat’s arrogance taints India’s image टाइटल से एक एडीटोरियल लिखा है। इसमें कहा है, "रावत ने न सिर्फ अंतर्राष्ट्रीय नियमों की अनदेखी की है बल्कि ऐसे हालात भी बना दिए हैं कि चीन को भारतीय सेना की अकड़ नजर आ रही है। बता दें कि रावत ने नई दिल्ली में सेंटर फॉर लैंड वारफेयर स्टडीज द्वारा आयोजित सेमिनार को संबोधित करते हुए कहा था कि भारत को दो मोर्चों पर युद्ध के लिए तैयार रहना चाहिए क्योंकि चीन ने अपना ‘दमखम दिखाना’ शुरू कर दिया है, वहीं पाकिस्तान के साथ सुलह की कोई गुंजाइश नहीं लगती। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा था कि चीन भारतीय इलाकों के टुकड़े करना चाहता है। 
PunjabKesari
चीन सरकार ने भी जताई नाराजगी 
रावत के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने भी एक ब्रीफिंग में कहा था कि दो दिन पहले ही, राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सामने संकेत दिया था कि दोनों देश एक दूसरे के लिए विकास के अवसर हैं, खतरा नहीं हैं।’’उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने भी कहा था कि भारतीय पक्ष द्विपक्षीय संबंधों के सतत विकास के लिए चीन के साथ काम करना चाह रहा है।उन्होंने कहा,‘‘हमें एक दूसरे को शत्रु नहीं मानना चाहिए। दोनों पक्षों को सीमावर्ती क्षेत्रों में अमन चैन बनाए रखने के लिए मिलकर काम करना चाहिए।’’रावत के बयान के जवाब में गेंग ने कहा,‘‘उम्मीद है कि ये सैन्य अधिकारी इस चलन को स्पष्ट तरीके से देखेंगे और चीन तथा भारत के संबंधों के विकास में योगदान देंगे।’’


 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You