चीन को रोकने के लिए भारत का बड़ा कदम, बांग्‍लादेश जाएंगे रक्षा मंत्री पार्रिकर

  • चीन को रोकने के लिए भारत का बड़ा कदम, बांग्‍लादेश जाएंगे रक्षा मंत्री पार्रिकर
You Are HereTop News
Wednesday, November 16, 2016-11:00 AM

बांग्लादेश: भारत ने बांग्‍लादेश में चीन की लगातार बढ़ रही मौजूदगी के मद्देनजर अब अब नजदीकियां बढ़ाने की तैयारियां शुरू कर दी हैं। इसी के तहत रक्षा मंत्री मनोहर पार्रिकर इस महीने के आखिर में बांग्‍लादेश का दौरा करने वाले हैं। उनके इस दौरे का मकसद चीन को ध्‍यान में रखते हुए, बांग्‍लादेश के साथ रक्षा संबंधों को और मजबूत बनाना है। सरकारी सूत्रों के मुताबिक पर्रिकर 30 नवंबर को दो दिवसीय बांग्‍लादेश दौरे पर जाएंगे। इस दौरान पड़ोसी मुल्‍क के साथ एक नए आपसी रक्षा सहयोग तंत्र (डिफेंस कोऑपरेशन फ्रेमवर्क) पर बातचीत की जाएगी। इस कदम के जरिए दोनों देशों के बीच मिलिट्री सप्‍लाई में बढ़ौतरी होने के साथ-साथ तकनीक का ट्रांसफर होगा, दोनों सेनाओं के बीच ट्रेनिंग और संयुक्‍त अभ्‍यास होंगे और आतंक के खिलाफ नजदीकी बढ़ेगी।

दिसंबर में बांग्‍लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना की भारत यात्रा के दौरान इस फ्रेमवर्क को अंतिम रूप दिया जा सकता है। खास बात यह भी है कि काफी सालों के दौरान बांग्‍लादेश की यात्रा करने वाले पर्रिकर पहले रक्षा मंत्री हैं।' गौरतलबव है कि बांग्‍लादेश के साथ चीन अपने रिश्‍तों को लगातार मजबूत कर रहा है। सोमवार को ही बांग्‍लादेश को चीन से दो सबमरीन हासिल हुए हैं। इससे पहले बांग्‍लादेश के पास सबमरीन नहीं था। ये दोनों सबमरीन डीजल-इलेक्ट्रिक बेस्‍ड हैं और इन्‍हें चीन के एक बंदरगाह पर बांग्‍लादेश के नेवी चीफ एडमिरल मोहम्‍मद निजामुद्दीन अहमद को सौंपा गया था।

चीन द्वारा बांग्‍लादेश को यह सबमरीन दिया जाना दोनों देशों के बीच लगातार मजबूत होते सैन्‍य रिश्‍तों की बानगी है। इससे पहले अक्तूबर के मध्‍य में चीन के राष्‍ट्रपति शी चिनफिंग ने बांग्‍लादेश का दौरा किया था। पिछले 30 सालों में ऐसा करने वाले वह चीन के पहले राष्‍ट्रपति थे। उनकी यात्रा के दौरान दोनों देशों के बीच 25 अरब डॉलर के 27 समझौते हुए थे।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You