धरने पर बैठी महिला की मांग- पति के अत्याचारों से न्याय मिले या इच्छामृत्यु

  • धरने पर बैठी महिला की मांग- पति के अत्याचारों से न्याय मिले या इच्छामृत्यु
You Are HereNational
Saturday, August 12, 2017-8:03 PM

नई दिल्ली: पति के अत्याचारों से तंग आकर एक महिला अपने 11 साल के बच्चे के साथ राज्य के महिला आयोग के दफ्तर के सामने बैठी है। उसकी मांग है कि पति द्वारा किए अत्याचार और चारित्रिक हनन से या तो न्याय मिले या इच्छामृत्यु। महिला का आरोप है कि उसका पति उस पर राज्य के सीनियर आईपीएस अफसरों के साथ नाजायज संबंध होने का आरोप लगाता है। पीड़िता का कहना है कि उसने अपने पति के खिलाफ एफआईआर कराने की बहुत कोशिश की लेकिन किसी ने भी उसकी गुहारर नहीं सुन। अब वह न्याय या इच्छामृत्यु में से कोई एक दिए जाने की मांग लेकर धरने पर बैठी है। जानकारी के अनुसार सविता की शादी वर्ष 1992 में एक व्यापारी से हुई तब से वह उसे दहेज को लेकर प्रताडि़त कर रहा है।

सविता ने बताया कि उसके पति के सीनियर अधिकारियों से काफी अच्छे संबंध थे और सविता की दोस्ती उनकी बीवियों के साथ है लेकिन उसका पति उस पर शक करने लगा। पीड़िता ने आरोप लगाया कि वह महिला आयोग के सामने सबूत लेकर भी आई लेकिन फिर भी उसकी बात नहीं सुनी गई। वहीं महिला आयोग की अध्यक्षा हर्षिता पांडे ने कहा कि महिला 2014 से आयोग के चक्कर लगा रही है लेकिन मामला हाई कोर्ट में विचाराधीन होने के कारण आयोग ने अपने हाथ खींच लिए। पांडे ने सविता द्वारा कोई सबूत पेश किए जाने की बात से भी इंकार किया। हालांकि उन्होंने कहा कि आयोग ने पुलिस से मामले का संज्ञान लेकर उससे और उसके परिवार से बात करने की बात कही है। 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You