गुजरात में बाढ़ की स्थिति और बिगड़ी, PM मोदी करेंगे हवाई सर्वे

You Are HereNational
Tuesday, July 25, 2017-4:31 PM

गांधीनगर/पालनपुर: गुजरात में लगातार हो रही अति भारी वर्षा के कारण आई बाढ़ की स्थिति और भयावह हो गई है और मौसम विभाग ने सर्वाधिक प्रभावित बनासकांठा जिले, जहां कुछ स्थानों पर पिछले 24 घंटे में 18 ईंच तक बरसात हुई है, समेत आसपास के इलाकों में अभी अगले तीन दिन तक भारी वर्षा की आशंका जताई है।  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी अपने इस गृहराज्य में आई बाढ़ का आज शाम हवाई निरीक्षण करेंगे। समझा जा रहा है कि अब भी हजारों लोग बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में फंसे हैं जिन्हें निकालने के लिए युद्धस्तर पर बचाव कार्य जारी है।
PunjabKesari
राजस्थान भी जाएंगे मोदी
उपमुख्यमंत्री नीतिन पटेल ने बताया कि मोदी आज शाम पड़ोसी राजस्थान तथा गुजरात के बाढ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करेंगे। उधर उत्तर गुजरात में बाढ़ के चलते धरोई बांध से आज सुबह से करीब 60 हजार घन मीटर प्रति सेकंड की दर से पानी छोड़े जाने के चलते अहमदाबाद शहर के बीचो-बीच बहने वाली साबरमती नदी का जलस्तर भी खतरनाक स्तर तक पहुंच गया है। साबरमती रिवरफ्रंट को आम लोगों के लिए बंद कर दिया गया है तथा इसका निचला हिस्सा पानी में डूब गया है। शहर के निकटवर्ती चंद्रभागा क्षेत्र में अलर्ट जारी कर लोगों को स्थानांतरित किया जा रहा है।
PunjabKesari
बचाव और राहत कार्य जारी
बाढ़ के कारण राज्य के उत्तर हिस्से में विशेष तौर पर बनासकांठा जिले में सैकड़ों रास्ते क्षतिग्रस्त हो गए हैं। कई को एहतियाती तौर पर बंद कर दिया गया है। दो राष्ट्रीय राजमार्ग और करीब 20 स्टेट हाईवे समेत लगभग 350 रास्ते बाढ़ के चलते बंद हैं। वायुसेना, सेना, एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमे बचाव और राहत कार्य में जुट गयी हैं। अब तक बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों से सैकडो लोगों को निकाला गया है। बाढ में फंसे 700 लोगों को बाहर निकाला गया है। 10 हजार से अधिक लोगों को स्थानांतरित भी किया गया है।

बाढ़ से घिरे क्षेत्रों में खाने के पैकेट और अन्य जीवनोपयोगी वस्तुओं के पैकेट पहुंचाए जा रहे हैं। बाढ़ के दौरान कल अरवल्ली जिले के मेघरज में नदी में कार समेत बह गए दो लोगों के शव आज बरामद किए गए हैं। अब तक बाढ़ और वर्षा जनित घटनाओं से राज्यभर में मरने वालों की संख्या 80 के पार पहुंच गयी है। पिछले 24 घंटे में 30 जिलों के 190 तालुका में वर्षा हुई है लेकिन सबसे अधिक वर्षा बनासकांठा, पाटन, साबरकांठा, महेसाणा और गांधीनगर जैसे उत्तरी जिलों में हुई है। दांतीवाडा में सबसे अधिक 18 ईंच वर्षा हुई है तो अन्य स्थानों पर भी चार से 15 ईंच तक बरसात दर्ज की गई है। आज भी कई स्थानों पर वर्षा का क्रम जारी है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You