नोटबंदी पर एक शख्स ने पोंछे विदेशी महिला के आंसू, वायरल हुई वीडियो

  • नोटबंदी पर एक शख्स ने पोंछे विदेशी महिला के आंसू, वायरल हुई वीडियो
You Are HereViral Stories
Tuesday, November 22, 2016-1:39 PM

गोवा:  नोटबंदी की वजह से विदेशों से भारत घूमने आए पर्यटकों को भी खासी दिक्कत हो रही है। 500 और 1000 के नोट चल नहीं रहे और दूसरी तरफ एक्सचेंज की तय सीमा ने फॉरेन टूरिस्ट्स को बेहाल कर रखा है। वहीं एक विदेशी महिला नोटबंदी के बाद गोवा एयरपोर्ट पर मुश्किल में पड़ गई। दरअसल एटीएम 8 नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 और 1000 के नोट बंद कर दिए, इसके बाद एक दिन बैंक बंद थे और दो दिन के लिए ATM।
 

 

Yesterday at Goa Airport, this foreign lady was literally crying and deadly begging for currency change with folded hands as she had to pay ₹1600 for extra baggage. She had 1000 Rs notes, didnt have credit/debit cards & 100₹ notes. Indigo's ground staff denied to accept it, the staff wasn't soft and at help at all. I argued & agreed to pay on her behalf through card, then a gentleman came forward after listening the argument and suddenly pulled out new note of 2000₹ in order to exchange with her 1000 notes. I thanked the gentleman. The airlines staff again was in dilemma whether they can accept the new note or not as it's still not available outside banks or financial institutions. They were bit surprised that after 8th November, ATMs are not working, banks are closed then how come this gentleman has got new currency notes of ₹2000 denomination so early today. The reason for posting is that you can buy the tickets with 500/1000₹ denominations but u can't pay airlines for extra baggage. Atleast foreigners should have been spared from this. √ How they will sort out the things with their available cash? √ What kind of soar experience and image of India they will carry globally. √ Is this your "Incredible India"? Objective of demonetization is good and should be respected but not at the cost of discomfort to people. Before rolling it off govt could have checked the necessities & problems faced by common men & needy people.

Nai-post ni SanJay Yadav noong Biyernes, Nobyembre 11, 2016



ऐसे में 10 नवंबर को विदेशी महिला के पास अपने अतिरिक्त सामान के लिए देने को पैसे नहीं थे। महिला के पास 2000 के नए नोट भी नहीं थे। महिला वहां उपस्थित लोगों से मदद की गुहार लगा रही थी। मदद न मिलने पर महिला एयरपोर्ट पर ही रो पड़ी। तभी एक अजनबी व्यक्ति ने महिला की मदद की। उस अजनबी शख्स ने महिला के अतिरिक्त सामान को लेने के लिए अपने कार्ड से 1,600 रुपए अदा किए। बिहार के उप मुख्यमंत्री के राजनीतिक सलाहकार संजय यादव ने इस पूरे मामले को अपने फेसबुक पेज पर शेयर किया। संजय यादव ने बताया कि इंडिगो एयरलाइंस के कर्मचारियों भी महिला से पुराने नोट नहीं ले रहे थे। इस पर महिला रोने लग गई। तभी एक सभ्य पुरुष ने उसकी मदद की।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You