कानपुर ट्रेन हादसे पर रेलवे का पहला परिक्षण, अब तक सबसे बड़ा मुआवजा

  • कानपुर ट्रेन हादसे पर रेलवे का पहला परिक्षण, अब तक सबसे बड़ा मुआवजा
You Are HereNational
Tuesday, November 22, 2016-2:13 AM

नई दिल्ली: हाल ही में रविवार तड़के 3:30 बजे इंदौर-पटना एक्सप्रेस के 14 डिब्बे पटरी से उतर गए जिसमें 145 यात्रियों की मौत हो गई और 200 से अधिक गंभीर घायल हो गए। सूत्रों के मुताबिक यह आंकड़ा अभी बढ़ भी सकता है। वहीं घायलों का इलाज चल रहा है।

हाल ही में 2 महीने पहले रेलवे ने तीन बीमा कंपनियों के साथ संयोग करके यात्रियों को बुकिंग के दौरान एक वैकल्पिक बीमा सेवा का शुभारंभ किया था। जिसमें यात्रियों की सुरक्षा के लिए बीमा सेवा मुहैया कराई गई। बीमा सुविधा के ऐलान के बाद इंदौर-पटना एक्सप्रेस दुर्घटना पहला हादसा है। अब रेलवे की बीमा योजना के परिक्षण की घड़ी आ गई है। इसमें पता चलेगा रेलवे किस हद तक मुहैया सुविधा पर खरी उतरती है।

ये है वह स्कीम
- 1 सितंबर को भारतीय रेलवे ने यात्रियों के लिए स्पेशल बीमा का शुभारंभ किया।
- स्कीम में यदि कोई आईआरसीटीसी वेबसाइट के जरिए टिकट की बुकिंग करता है तो वैकल्पिक बीमा योजना के तहत सेेवा मुहैया होगी। 
- यह टिकट किसी भी क्लास और स्टेटस का हो सकता है।
- यह सुविधा विदेशी और 5 साल तक के बच्चों के लिए नहीं है। 

92 पैसे का प्रमियिम से ये किया था ऐलान
- मृत्यु या पूर्ण रूप से विकलांगता पर 10 लाख रुपए।
- आंशिक विकलांगता पर 7.5 लाख रुपए।
- हॉस्पिटल खर्चे पर 2 लाख रुपए।

इंदौर-पटना एक्सप्रेस दुर्घटना पर होगा योजना का परिक्षण
- दुर्घटना में 145 की जानें गईं और 200 से अधिक अभी भी गंभीर घायल हैं।
- 410 में से 126 टिकट वैकल्पिक बीमा योजना के जरिए बुक हुए। 
- वहीं 695 में से 209 यात्री बीमा योजना के तहत रहे।
- जिसमें 78 टिकटों के 126 यात्री बीमा योजना के भुगतान के पात्र हैं।  

अब तक का सबसे बड़ा मुआवजा
भारत में अब से पहले भी काफी ट्रेन हादसे हुए हैं लेकिन ऐसा भारत में पहली बार है जब मुआवजे के तौर पर इतनी बड़ी सहायता धनराशि दी जा रही हो। आंकड़ा निकालकर देखें तो मृतक के परिवार को लगभग 22.5 लाख रुपए की धनराशि प्रदान की जाएगी।

नरेंद्र मोदी+रेलवे           : 5.5 लाख
अखिलेश यादव            : 5 लाख
शिवराज सिंह चौहान      : 2 लाख
आईआरसीटीसी बीमा     : 10 लाख
टोटल                        : 22.5 लाख

2 महीने में इन्होंने कराया बीमा
अब तक 2.6 करोड़ लोगों ने इस वैकल्पिक बीमा योजना से 30 अक्टूबर 2016 तक बीमा कराया। जिसमें कुल 1.82 करोड़ रुपए का धन एकत्रित हुआ।

ये बीमा कंपनियां हैं शामिल
1) ICICI लोमबार्ड जनरल इंश्योरेंस।
2) रॉयल सुंदरम जनरल इंश्योरेंस।
3) श्रीराम जनरल इंश्योरेंस।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You