पाकुड़ के चुंबन प्रतियोगिता पर मचा सियासी घमासान

You Are HereNational
Monday, December 11, 2017-8:18 PM

दुमका, बीरेंद्र कुमार झा: पाकुड़ में थाईलैंड के तर्ज पर सोमवार को डुमरिया सिद्धो कान्हू मेला में चुम्‍बन प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इस चुम्‍बन प्रतियोगिता में दर्जनों जोड़ों ने एक-दूसरे को किस किया। विवाहित महिला-पुरूषों ने इस प्रतियोगिता में भाग लेकर यह दिखाने का भी प्रयास किया कि वे अब आधुनिक युग में जीना चाहते हैं। वहीं दूसरी तरफ इस प्रतियोगिता को लेकर सियासी घमासान भी शुरू हो गया है। बीजेपी व झारखंड मुक्ति मोर्चा के कार्यकर्ता आमने सामने आ गए हैं। गौरतलब है कि लिट्टीपाड़ा प्रखंड के डुमरिया गांव में झारखंड मुक्ति मोर्चा विधायक साइमन मरांडी द्वारा प्रतिवर्ष यहां मेला का आयोजन कराया जाता है. मेले में जिले के सभी आदिवासी पहाडिय़ा समाज के लोग हिस्सा लेते हैं और मेले में लोगों के मनोरंजन के लिए आदिवासी एवं पहाडिय़ा नृत्य, गीत भी प्रस्तुत किया जाता है।

बीजेपी ने किया विरोध
बीजेपी आदिवासी सेल के अध्यक्ष राम कुमार पाहन ने कहा कि जिस तरह से जेएमएम के दो विधायकों द्वारा इस तरह के कार्यक्रम में शिरकत करना उनकी पार्टी की दुष्प्रवृति को दर्शाता है। इस पार्टी को आदिवासियों के रीति-रिवाज और प्रतिष्ठा से कुछ लेना देना नहीं है। जेएमएम आदिवासियों को सिर्फ अपना वोट बैंक समझकर कुछ उसका फायदा उठाता है और अपने मनोरंजन के नाम पर आदिवासियों के साथ चुंबन जैसी आदिवासी रीति के विरूद्ध काम करता है।

जेएमएम पर बीजेपी का निशाना
जमशेदपुर लिट्टीपाड़ा प्रखंड के डुमरिया मैदान में आयोजित इस प्रतियोगिता के दौरान जेएमएम विधायक साइमन मरांडी की मौजूदगी में हुई। बीजेपी के जिला उपाध्यक्ष बारी मुर्मू ने कहा है कि जेएमएम कार्यकर्ताओं ने
आदिवासी समाज की छबि को बिगाडऩे का प्रयास किया गया है। मीडिया से बातचीत के दौरान महिला उपाध्यक्ष बारी मुर्मू ने कहा की जल जंगल ज़मीन की रक्षा करने वाली पार्टी के विधायक आदिवासी समाज की संस्कृति को बदनाम करने की साजिश है। ईसाई मशीनरी के इशारों पर काम हो रहा है पार्टी के गुरु जी से मांग की गयी की ऐसे विधायक को पार्टी से तत्काल निष्कासित किया जाना चाहिए।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन

Recommended For You