अनाथाश्रम में रह रही लक्ष्मी बनेगी इटली की बेटी, हादसे में खो चुकी है मां

  • अनाथाश्रम में रह रही लक्ष्मी बनेगी इटली की बेटी, हादसे में खो चुकी है मां
You Are HereNational
Sunday, September 24, 2017-3:18 PM

जयपुर: एक अनाथाश्रम में पल रही बीकानेर की लक्ष्मी एक नया परिवार मिल गया है। इटली की एक दंपत्ति ने उसे गोद लेने की इच्छा जताई, जिसके बाद बिकानेर के परिवारिक न्यायलय ने लक्ष्मी को गोद देने की अनुमति दे दी। लक्ष्मी की मां का 2008 में एक सड़क दुर्घटना में देहांत हो गया था और तब से लक्ष्मी यहां एक अनाथाश्रम में पल रही थी। पारिवारिक न्यायालय के जज श्याम सुंदर लाटा ने जिला प्रशासन से कहा कि बच्ची का जन्म प्रमाण-पत्र पांच दिन में बनाया जाए और 10 दिन में उसका पासपोर्ट तैयार कराया जाए। 

इटली के रहने वाले जेरा अल्बर्टो और उनकी पत्नी तार्तागलिया लूसिया ने केंद्र सरकार के ऑनलाइन पोर्टल के जरिए एक भारतीय बच्ची को गोद लेने का आवेदन किया था। सेंट्रल एडॉप्शन रिसोर्स अथॉरिटी (सीएआरए) केंद्र सरकार की संस्था है, जो बच्चों के गोद जाने की प्रक्रिया की मॉनिटरिंग करती है और यह सुनिश्चित करती है कि बच्चे सही परिवार में जाए। इटली की दंपत्ति ने अपने आवेदन में कहा कि वे 2011 में पश्चिम बंगाल के दुर्गापुर से एक लड़के को गोद ले चुके हैं और अब अपना परिवार पूरा करने के लिए लड़की को गोद लेना चाहते हैं। उन्होंने लिखा कि उन्हें भारत और यहां की संस्कृति पसंद है, इसलिए वे भारतीय बच्चे चाहते हैं।
 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You