भारी बारिश से पिथौरागढ़ में जनजीवन अस्त-व्यस्त, उत्तराखंड में बाढ़ जैसे हालात

  • भारी बारिश से पिथौरागढ़ में जनजीवन अस्त-व्यस्त, उत्तराखंड में बाढ़ जैसे हालात
You Are HereNational
Thursday, August 10, 2017-1:40 PM

नैनीताल: पिथौरागढ़ की संवेदनशील धारचूला तहसील में भारी बारिश के चलते जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। भारी बारिश के कारण जौलजीवी-मदकोट-मुनस्यारी नेशनल हाईवे में बरम के पास गोसी नदी पर बना मोटर पुल बह गया है। इससे मुनस्यारी से संपर्क कट गया है। कई घर क्षतिग्रस्त हो गये हैं। तीन नेशनल हाईवे बंद हो गए हैं। कैलाश मानसरोवर यात्रा मार्ग भी फिलहाल बंद हो गया है। काली नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। गांवों को अलर्ट जारी कर दिया गया है। एसडीआरएफ व एनडीआरएफ ने मौके पर मोर्चा संभाल लिया है।

बुधवार से हो रही भारी बारिश
पिथौरागढ़ जिले में बुधवार शाम से भारी बारिश हो रही है। धारचूला तहसील में बारिश सबसे अधिक कहर बरपा रही है। बरम से ऊपर अति ऊंचाई वाले इलाकों में हो रही भारी बारिश व बादल फटने से गोसी नदी व आसपास के जलाशय उफान पर हैं। इससे गोसी नदी का जलस्तर काफी बढ़ गया है। बरम में वाहनों के लिए बना पुल बह गया है। नदी ने पुल के एक हिस्से को बहा दिया है जिसके कारण बरम में कई घरों में मलबा घुस गया है। लगभग डेढ़ दर्जन परिवारों को स्कूलों में शिफ्ट किया गया है। कई मवेशियों के भी बहने की सूचना है।

बचाव रार्य में जुटीं SDRF, NDRF टीमें
धारचूला के एसडीएम आरके पांडे ने बताया कि बरम से 20 किमी ऊपर कनार गांव में कुछ मकान ढहने की सूचना है। वहां एसडीआरएफ व राजस्व विभाग की टीम को राहत व बचाव के साथ स्थिति के आकलन के लिए भेजा गया है। टीम कल तक अपनी रिपोर्ट देगी। सबसे अधिक नुकसान बरम के बंगापानी में हुआ है। गोसी नदी ने कई घरों को नुकसान पहुंचा है। एसडीआरएफ, एनडीआरएफ, पुलिस व राजस्व विभाग की टीम रातभर मौके पर राहत एवं बचाव के काम में जुटी रही। बरम में डेढ़ दर्जन से अधिक परिवार प्रभावित हुए हैं जिन्हें पास में ही राजकीय इंटर कालेज में ठहराया गया है। पांडे ने बताया कि काली व सभी छोटी नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। नदियों के आसपास गांवों में अलर्ट जारी कर दिया गया है। खासकर धारचूला तहसील के दादूखेड़ा, जौलजीवी व बरम गांवों को खाली करने के आदेश जारी कर दिये गये हैं।   कैलाश मानसरोवर यात्रा का मार्ग भी भारी बारिश के चलते बंद हो गया है। इसके अलावा दो अन्य हाईवे बंद पड़े हैं। जौलजीवी-मदकोट- मुनस्यारी हाईवे के अलावा कैलाश मानसरोवर यात्रा मार्ग धारचूला-तवाघाट- गर्बाधार पर कई जगह मलबा आया है। नारायण आश्रम- सोबला हाईवे भी जगह जगह भूस्खलने होने के चलते बंद हो गया है। इनमें वाहनों की आवाजाही ठप पड़ गयी है। बताया जा रहा है कि सोबला में भूस्खलन हुआ है जिससे हाईवे बंद हो गया है।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You