एम.सी. चुनाव : टिकट की घोषणा के बाद भाजपा में बगावत की लहर, निर्दलीय लडऩे का किया ऐलान

  • एम.सी. चुनाव : टिकट की घोषणा के बाद भाजपा में बगावत की लहर, निर्दलीय लडऩे का किया ऐलान
You Are HereChandigarh
Thursday, November 24, 2016-8:05 AM

चंडीगढ़ (राय): नगर निगम चुनाव के लिए भाजपा द्वारा उम्मीदवारों की घोषणा के बाद टिकट न मिलने वालों ने पार्टी से बगावत कर इस्तीफा देकर चुनाव में निर्दलीय लडऩे का ऐलान कर दिया है। इन असंतुष्ट पार्टी कार्यकर्ताओं ने बुधवार को पार्टी प्रदेश अध्यक्ष संजय टंडन के घर के बाहर प्रदर्शन किया। इनका आरोप है कि पार्टी ने चुनाव हारने वाले चेहरों को टिकट दी है, जबकि वर्षों से लोगों से जुड़े कार्यकर्ताओं को दरकिनार किया है।  

 

इन्हीं असंतुष्ट नेताओं में से पार्टी के कालोनी सैल के पूर्व प्रधान दलीप शर्मा ने अपने सैंकड़ों समर्थकों के साथ पार्टी से त्यागपत्र देकर वार्ड नंबर-19 से निर्दलीय चुनाव लडऩे की घोषणा कर दी है। त्याग पत्र देने वालों में दलीप शर्मा के अतिरिक्त सरीता शर्मा, पूर्व पार्षद व महिला मोर्चा की प्रदेश उपाध्यक्ष व टैनामैंट कालोनी सैल के उपाध्यक्ष रजनीश भारद्वाज, सजीव शर्मा, महासचिव सुनील शर्मा, मनसा, बीरू, सोम, हरभजन सिंह, भगवान दास, साजिद हैं। बुधवार को बापूधाम में इन लोगों ने बैठक कर इसका फैसला लिया। 


 

टिकट आबंटन का तरीका गलत : दिलीप
दिलीप ने कहा कि पार्टी ने टिकटों का आबंटन गलत तरीके से किया है और जनरल वार्ड में भी रिजर्व उम्मीदवार को चुनाव मैदान में उतार दिया गया है। उन्होंने कहा कि वार्ड नंबर-19 से पहले उनकी भाभी सरिता शर्मा 5249 वोट लेकर जीती थी, जबकि भाजपा को यहां केवल 786 वोट पड़े थे। दलीप वार्ड नंबर-19 से रविवार को नामांकन पत्र भरेंगे। 

 

इसके साथ ही पार्टी नेता अश्वनी शर्मा वार्ड नंबर-20 से चुनाव लड़ेंगे। पार्टी के प्रदेश युवा उपाध्यक्ष शिव कुमार शर्मा ने भी वार्ड नंबर-18 से चुनाव लडऩे की घोषणा कर दी है। दिलीप ने कहा कि भाजपा ने चुनाव हारने वाले चेहरों को टिकट देकर सीधे-सीधे कांग्रेस को लाभ पहुंचाया है। भाजपा के उपाध्यक्ष हरि शंकर मिश्रा ने भी आजाद उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लडऩे का ऐलान किया है। मिश्रा वार्ड नंबर-20 से चुनाव लड़ेंगे। 


 

रामलाल का आरोप-राजस्थानी समाज की हुई अनदेखी  
भाजपा के पूर्व पार्षद रामलाल ने कहा कि भाजपा ने उम्मीदवारों की घोषणा तो कर दी है, जिसमें कि राजस्थानी समाज को नजरअंदाज किया गया है। अगर कांग्रेस से भी राजस्थानी समाज से किसी उम्मीदवार को टिकट न मिली तो वे वार्ड नंबर-23 से आजाद उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ेंगे।  वहीं देसराज गुप्ता ने कहा कि चुनाव लडऩे के संबंध में अभी उन्होंने निर्णय नहीं लिया है। जल्द ही इस संबंध में फैसला लेंगे।

 

गीता राम ने भी दिया त्यागपत्र 
भाजपा के एस.सी. मोर्चा के चंडीगढ़ प्रभारी गीता राम ने अपने घर  पर बैठक की, जिसमें पार्टी नेता कृष्ण आजाद, गुलाब सिंह, उमेश जैन व अन्य असंतुष्ट नेता शामिल हुए। बैठक में फैसला लिया गया कि गीता राम की पत्नी को वार्ड नंबर-6 से आजाद उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ाया जाएगा। 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You