भारत के इतिहास में पहली बार, सुरेन्द्र कोली को 7 मामलों में सजा ए मौत

  • भारत के इतिहास में पहली बार, सुरेन्द्र कोली को 7 मामलों में सजा ए मौत
You Are HereNational
Friday, December 16, 2016-9:57 PM

गाजियाबाद: नोएडा के बहुचर्चित निठारी कांड से जुड़े सातवें मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने भी सुरेंद्र कोली को मौत की सजा सुनाई है। बीआई के वरिष्ठ लोक अभियोजक जे पी शर्मा ने बताया कि भारत के इतिहास में अपने आप में यह पहला एेसा मामला है जिसमे किसी मुजरिम को अलग-अलग मामलों में सात बार फांसी की सजा हुई हो। 

कोली के चेहरे पर चिंता 
विशेष अदालत के न्यायाधीश पवन कुमार तिवारी ने सुनवाई की पिछली तारीख पर कोली को दोषी करार दिया था। इसके बाद कड़ी सुरक्षा के बीच उसे अदालत में पेश किया गया। दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद अदालत ने उसे मौत की सजा सुनाई। हालांकि, सजा सुनाए जाने के बाद में कोली के चेहरे पर चिंता की लकीरें और परेशानी साफ नजर आई।  

सुरेंद्र कोली ने तोड़ी चुप्पी 
कोली ने एक 11 साल की नाबालिग लड़की का अपहरण करने के बाद उसकी हत्या कर उसके साथ दुष्कर्म किया था। अभी इस कांड से संबंधित 9 मामले लंबित हैं जिनमें फैसला आना है। सात मामलों में फांसी की सजा सुनाए जाने के बाद आज पहली बार सुरेंद्र कोली ने अपनी चुप्पी तोड़ते हुए कहा कि उसकी दलीलों को अदालत ने नहीं सुना। इसीलिए उसने सजा के कागजों पर हस्ताक्षर नहीं किए हैं। 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You