अमरीका की इस हरकत से पाक को लगी मिर्ची, भारत भी निशाने पर

You Are HereNational
Monday, July 24, 2017-12:58 PM

इस्लामाबादः अमरीका ने पाकिस्तान को 5 करोड़ डॉलर की वित्तीय मदद क्या रोक ली, पाकिस्तानी मीडिया को अमरीका के खिलाफ जहर उगलने का एक और मौका मिल गया है और भारत भी उसके निशाने पर है क्योंकि पाक को अमरीका के साथ बढ़ते भारत के रिश्ते बहुत चुभते हैं। अमरीका ने पाकिस्तान पर अफगान तालिबान के हक्कानी नैटवर्क धड़े के खिलाफ कार्रवाई न करने का आरोप लगाया है और साझा कार्रवाइयों के लिए हुए खर्चों का भुगतान करने से इंकार कर दिया है।
PunjabKesari
अमरीका ने अपनी एक ताजा रिपोर्ट में कहा है कि पाकिस्तान बदस्तूर आंतकवादियों की शरणस्थली बना हुआ है और उसे उनके खिलाफ और कड़े कदम उठाने होंगे। अमरीका की  “डू मोर” की मांग पर चिढ़ते हुए पाकिस्तान अखबार अमरीका को एहसानफरामोश बता रहे हैं। उनके मुताबिक जब मतलब पड़ा तो अमरीका ने पाकिस्तान का इस्तेमाल किया और अब पल्ला झाड़ रहा है।
PunjabKesari
कराची से छपने वाला अखबार ‘जंग’ लिखता है कि यह बहुत ही अजीब बात है कि अमरीका आतंकवाद के खिलाफ जंग में पाकिस्तान की कुर्बानियों को स्वीकार भी करता है और दूसरी तरफ ऐसे कामों की मांग भी करता है जो अफगानिस्तान में बरसों जमे होने के बावजूद अमरीका और 40 अन्य देशों की सेनाएं मिलकर भी नहीं कर पाईं।

अखबार लिखता है कि पाकिस्तान ने आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में अपने 50 हजार से ज्यादा आम नागरिक और छह हजार से ज्यादा सैनिक गंवाए हैं और खरबों रुपए का नुकसान भी झेला है। अखबार की राय में, पाकिस्तान से ऐसी मांग करना उचित नहीं है जो उसके अख्तियार भी न ही क्योंकि हक्कानी नेटवर्क अफगानिस्तान में मौजूद है और सक्रिय है ।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You