पंजाब यूनिवर्सिटी में टिक्यूप प्रोजैक्ट पूरा होने के बाद 2017 में होगा बंद

  • पंजाब यूनिवर्सिटी में टिक्यूप प्रोजैक्ट पूरा होने के बाद 2017 में होगा बंद
You Are HereChandigarh
Friday, November 18, 2016-8:38 AM

चंडीगढ़(रश्मि हंस ) : पंजाब यूनिवर्सिटी के यू.आई.ई.टी. विभाग में चल रहा टैक्निकल एजुकेशन क्वालिटी इम्प्रूवमैंट प्रोग्राम (टिक्यूप) प्रोजैक्ट बंद होने जा रहा है। ऐसा इसलिए क्योंकि टीक्यूप का कार्यकाल अगले साल पूरा होने वाला है। प्रोजैक्ट प्रतिष्ठित संस्थानों एम.एच.आर.डी. की तरफ से दिया जाता है। टीक्यूप से संस्थान को इंजीनियरिंग के लिए काफी इंफ्रास्ट्रक्चर मिला है। अब  जल्द टीक्यूप-थ्री एम.एच.आर.डी. की तरफ से लांच किया जाएगा। उम्मीद है कि यह प्रोजैक्ट भी यू.आई.ई.टी. को मिल जाएगा। नैश्रल प्रोजैक्ट इम्पीलमैंट यूनिट (एन.पी.आई.यू) के तहत टिक्यूप के लिए कुछ गाइडलाइंस बनाई हैं जिन पर खरा उतरने वाले संस्थानों को ही यह प्रोजैक्ट दिया जाता है। जानकारी के मुताबिक  टीक्यूप  प्रोजैक्ट यूआईईटी को सत्र 2010 में मिला था। फंड आने के बाद इस पर 2012 से शुरू हुआ व 5 साल तक इस पर काम होना था। 31 मार्च 2017 तक इस प्रोजैक्ट पर काम खत्म होने जा रहा है। टीक्यूप के तहत यू.आई.ई.टी. को 15 करोड़ ग्रांट मिली थी। 

 

ये हुए कार्य :  

रिसर्च के लिए एक्सीलैंस सैंटर, फैकल्टी ट्रेनिंग, अन्य ट्रेनिंग प्रोग्राम, स्टूडैंट के  स्किल सुधारने के लिए वर्कशॉप, बिजनैस इंटैलीजैंस, क्लाऊड कम्पूटिंग, एडवांस मैटीरियल व इंजीनियरिंग पर वर्कशॉप, स्टैम सैल- रिजनरेशन कोर्स, एडवांस ट्रेनिंग वुडस होल, कम्प्यूटर कम्युनिकेशन पर इंटरनैशनल कांफ्रैंस, लैब्स अपग्रेड, विभिन्न संस्थाने के साथ सहयोग में रिसर्च आदि। 

 

टिक्यूप-थ्री के लिए प्रयास :
टिक्यूप के नोडल ऑफिसर डा. हरीश ने बताया कि  पिछली बार 400 संस्थानों ने टीक्यूप के लिए आवेदन किया था। इनमें से 190 संस्थानों को यह प्रोजैक्ट मिला था। उन्होंने बताया कि  टीक्यूप-2 खत्म होने के बाद टीक्यूप-3 प्रोजैक्ट भी पी.यू. को मिले इसके लिए प्रयास जारी रहेंगे। 

 

ये रिसर्च प्रोजैक्ट हुए पूरे :
ओपन सॉफ्टवेयर के लिए टैक्नीकल एजुकेशन, नैचुरल फाइल रिइनफोर्सड पॉलीमर, सिंथेसिस ऑफ नॉवल सी-थ्री इंस्पायरो लैकटैंप्स, इसके अलावा अन्य काफी प्रोजैक्ट पर काम हुआ। 

 

8 हजार मासिक पैंशन :
पोस्ट ग्रैजुएशन (एम.ई.) के स्टूडैंट्स को आठ हजार रुपए मासिक स्कॉलरशिप दी गई जबकि पीएच.डी. स्कॉलर को 18 हजार रुपए मासिक स्कॉलरशिप 20 फीसदी एच.आर.ए. के साथ दी गई। 

 

इन्हें मिली  स्कॉलरशिप 
सत्र        एम.ई.     पीएच.डी.
2012-13    17        09
2013-14    38       16
2014-15    21       18
2015-16    0       12
2016-17    0       06


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You