मुहर्रम पर मातमी जुलूस पर अनूठी पहल, खून बहाने के बजाए किया यह काम

  • मुहर्रम पर मातमी जुलूस पर अनूठी पहल, खून बहाने के बजाए किया यह काम
You Are HereNational
Thursday, October 13, 2016-9:06 AM

विकासनगर: उत्तराखंड में मुहर्रम के मौके पर शिया समुदाय के लोगों ने अनूठी मिसाल पेश करते हुए विकासनगर के जीवनगढ़ में मातमी जुलूस में लहू बहाने के बजाए रक्तदान किया और इसमे लोगों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया।  
 

सूत्रों के अनुसार मुहर्रम पर अंबाड़ी में सदरे अंजुमने हैदरी अंबाड़ी एवं बल्ती यूथ फेडरेशन की ओर से रक्तदान शिविर लगाया गया। सुबह से ही युवाओं में रक्तदान के प्रति उत्साह देखा गया। सभी की ख्वाहिश थी कि मातमी जुलूस में खून बहाने की बजाय इसे लोगों की जान बचाने के लिए दान किया जाए और तमाम जिंदगियां बचाई जा सके।  


शिया समुदाय के युवक युवतियों के अलावा हिदुओं ने भी इस मौके पर रक्तदान किया। अंजुमन से जुड़े लोगों का कहना था कि हजरत इमाम हुसैन साहब ने मानवता को बचाने के लिए बड़ी कुर्बानी दी और रक्तदान कर उनकी इस कुर्बानी को याद करने की यह छोटी कोशिश है। उन्होंने कहा कि इसके पीछे उद्देश्य यह है कि रक्तदान से जिंदगियां बच सकें और मानवता की रक्षा हो सके। इस अवसर पर अनेक गणमान्य लोग मौजूद थे।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You