PGI निदेशक की चयन प्रक्रिया पर रोक बरकरार, 12 दिसम्बर को कमीशन में फिर होगी सुनवाई

  • PGI निदेशक की चयन प्रक्रिया पर रोक बरकरार, 12 दिसम्बर को कमीशन में फिर होगी सुनवाई
You Are HereChandigarh
Friday, November 18, 2016-8:43 AM

चंडीगढ़(पांडेय) : पी.जी.आई. चंडीगढ़ के निदेशक की चयन प्रक्रिया पर नैशनल एस.सी. कमीशन की रोक फिलहाल बरकरार है। वीरवार को कमीशन के बुलावे पर केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव सी.के. मिश्रा ने तथ्यों के साथ सरकार का पक्ष रखा। स्वास्थ्य सचिव ने कमीशन को चयन प्रक्रिया की लिखित में जानकारी दी, लेकिन कमीशन चयन प्रक्रिया के उक्त तथ्यों से संतुष्ट नहीं हुआ। सुनवाई में शिकायत करने वाले दलित संगठनों के पदाधिकारी भी मौजूद थे। इसलिए कमीशन ने दलित संगठनों को कागजात सौंप दिए। अब मामले की सुनवाई 12 दिसम्बर को होगी। 

 

पिछले दिनों कमीशन से की थी शिकायत :
गौरतलब है कि पी.जी.आई. चंडीगढ़ में निदेशक की चयन प्रक्रिया में वरिष्ठता सूची को दरकिनार करने के मामले में पिछले दिनों नैशनल एस.सी. कमीशन में एक शिकायत सौंपी गई थी। यह शिकायत कुछ दलित संगठनों ने एडवांस आई सैंटर के विभागाध्यक्ष डा. जगतराम को दरकिनार करने पर की थी। दलित संगठनों की शिकायत पर आज हुई सुनवाई में नैशनल एस.सी. कमीशन पहुंचे केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव मिश्रा ने बताया कि पी.जी.आई. के निदेशक की चयन प्रक्रिया पूरी तरह पारदर्शी होती है और इसके लिए एक पैनल बनाया गया है। चयन प्रक्रिया में मैरिट और उपयुक्त व्यक्ति को ही तवज्जो दी जाती है। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने बताया कि चयन के लिए 5 स्लाइड बनाए गए हैं, जिनके अनुसार चयन प्रक्रिया को अंतिम रूप दिया जाता है। स्वास्थ्य सचिव ने कमीशन को यह भी बताया कि पैनल ने ही 3 नामों को हरी झंडी है। 

 

वरिष्ठता में आगे हैं डा. जगतराम :
एस.सी. कमीशन को सौंपे तथ्यों में केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव सी.के. मिश्रा ने माना है कि पैनल द्वारा तय किए नामों में डा. जगतराम की वरिष्ठता सबसे ऊपर है। लेकिन पैनल में डा. जगतराम को नंबर 3 पर रखा गया है। पैनल-2 पर पहुंचा व्यक्ति एच.ओ.डी. भी नहीं है। चयन प्रक्रिया के मापदंड में एच.ओ.डी. होना अनिवार्य है।

 

जवाब से संतुष्ट नहीं हुआ कमीशन :
केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव के जवाब से कमीशन संतुष्ट नहीं हुआ है। कमीशन के सदस्य ईश्वर सिंह ने कहा कि प्रक्रिया के पैनल में दलित समुदाय से जुड़े व्यक्ति को क्यों नहीं शामिल किया गया। जब डा. जगतराम सूची में सबसे आगे हैं तो उन्हें किस तरह से दरकिनार किया जा रहा है। 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You