आम आदमी को एक और बढ़ी राहत देने की तैयारी में मोदी सरकार!

You Are HereNational
Monday, April 17, 2017-2:38 PM

सूरत: 700 जरूरी दवाओं के दाम तय करने तथा हृदय रोग के लिए जरूरी स्टेंट की कीमत घटाने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक बार आम आदमी को राहते देने की तैयारी में हैं। मोदी सरकार एक ऐसा कानून बनाने जा रही है जिसके बाद डाक्टरों के लिए सस्ती जेनरिक दवाएं ही पर्ची पर लिखना अनिवार्य हो जाएगा।

PunjabKesari


500 करोड़ की लागत से बने एक निजी अस्पताल का किया उद्घाटन
नई दिल्ली: पीएम मोदी ने आज यहां 500 करोड़ की लागत से बने एक निजी अस्पताल के उद्घाटन के अवसर पर कहा कि उनकी सरकार ने लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं दिलाने के लिए सस्ती दवाओं की उपलब्धता और जरूरी दवाओं के मूल्य तय करने समेत कई कदम उठाए हैं। इसी कड़ी में अटल बिहारी वाजपेयी सरकार के 15 साल बाद उनकी सरकार स्वास्थ्य नीति लेकर आयी है। देश में स्वास्थ्य क्षेत्र में डाक्टरों की कमी समेत कई समस्याएं थी। 


PunjabKesari


ताकतवर तबके की नाराजगी मोल लेकर गरीबों के लिए स्वास्थ्य सुविधा बढ़ाने के प्रयास जारी
मध्यम वर्ग के परिवार में एक भी व्यक्ति के बीमार हो जाने से परिवार को पूरा अर्थतंत्र गड़बड़़ हो जाता है। मकान खरीदने और बेटी की शादी जैसे अन्य बेहद जरूरी काम रूक जाते हैं।  उन्होंने कहा कि वह समाज के एक ताकतवर तबके की नाराजगी मोल लेकर भी गरीब और मध्यम वर्ग के लिए स्वास्थ्य सुविधा बढ़ाने के प्रयास जारी रखे हुए हैं। उन्होंने 700 जरूरी दवाओं के दाम तय करने तथा हृदय रोग के लिए जरूरी स्टेंट की कीमत घटाने का काम किया है। फिर भी अभी कई डाक्टर पर्चा लिखते है तो इस तरीके से लिख देते हैं कि मरीजों को महंगी दुकान पर जाना पड़ता है। पर जल्द ही वह ऐसा कानून बनाएंगे और व्यवस्था करेंगे कि डाक्टरों के लिए सस्ती जेनरिक दवाएं लिखना जरूरी होगा।  

PunjabKesari

रोज एक काम ऐसा करता हूं जिससे कोई ना कोई नाराज हो जाए: पीएम मोदी
पीएम मोदी ने अपने खास लहजे में कहा कि मै गुजरात में था तो बहुत लोगों को नाराज करता था। अब दिल्ली में गया हूं तो भी लोगों को नाराज करता रहता हूं। रोज एक काम ऐसा करता हूं जिससे कोई ना कोई नाराज हो जाए। अब दवा कंपनियां मुझसे नाराज हैं। उन्होंने अपने स्वच्छता अभियान को भी स्वास्थ्य से सीधे तौर पर जुडा बताया।  पीएम मोदी ने कहा कि आजादी के बाद से देश में ऐसा माहौल बन गया था कि सब कुछ सरकार को ही करना चाहिए जबकि पुरातन समय से समाज के काम जनशक्ति के जरिये करने की परंपरा था। एक बार फिर यह भावना वापस जोर पकड़ रही है। उन्होंने उक्त अस्पताल का शिलान्यास तथा उद्घाटन दोनो स्वयं करने की चर्चा करते हुए कहा कि देश में केवल योजनाओं का शिलान्यास करने का फैशन बन गया था। वह इसे खत्म करना चाहते थे। उन्होंने यह भी कहा कि वह जुलाई माह में जब किसी भारतीय प्रधानमंत्री के पहले इजरायल दौरे पर जाएंगे तो सूरत के हीरा उद्योग के प्रतिनिधि बन कर भी जाएंगे।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You