स्कूली पुस्तकों से टैगोर को हटाने की कोई योजना नहीं: जावड़ेकर

  • स्कूली पुस्तकों से टैगोर को हटाने की कोई योजना नहीं: जावड़ेकर
You Are HereNational
Tuesday, July 25, 2017-3:24 PM

नई दिल्ली: मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने आज कहा कि स्कूली किताबों से रवींद्रनाथ टैगोर की रचनाओं और उनके संदर्भ को हटाने की सरकार की कोई योजना नहीं है। राज्यसभा में तृणमूल कांग्रेस के सांसद डेरेक ओ ब्रायन की ओर से पूछे गए एक सवाल के जवाब में जावड़ेकर ने कहा कि सरकार टैगोर और उन सभी का सम्मान करती है, जिन्होंने देश की आजादी और साहित्य के लिए योगदान दिया। उन्होंने कहा कि हम हर किसी की सराहना करते हैं और कुछ नहीं हटाया जाएगा। साथ ही जावड़ेकर ने कहा कि एनसीईआरटी की पुस्तकों, शिक्षकों और अन्य से कहा गया है कि वे किताबों में किसी भी तथ्यात्मक त्रुटि को हटाने या सुधारने के सुझाव दें।

बता दें कि ओ ब्रायन ने कहा था कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने सुझाव मांगे थे और आरएसएस के अनुषांगिक संगठन शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास का एक सुझाव था कि किताब से टैगोर की रचनाओं और संदर्भों को हटा दिया जाए। तृणमूल सांसद ने कहा कि रवींद्रनाथ टैगोर को किसी से प्रमाण पत्र की जरूरत नहीं है। उनके बयान के बाद ओ ब्रायन टैगोर पर आधारित तीन पुस्तकें भेंट करने के लिए जावड़ेकर के पास गए। 

वहीं, सपा के नरेश अग्रवाल ने कहा कि न्यास ने पाठ्य पुस्तकों से उर्दू शब्दों और मिर्जा गालिब को हटाने का भी सुझाव दिया है, जबकि जावड़ेकर ने कहा कि 7000 सुझाव आए हैं और हम ऐसा कुछ नहीं करेंगे जिससे कुछ समस्या खड़ी हो। शून्य काल के दौरान भाकपा के डी राजा ने शिक्षा क्षेत्र के प्रति सरकार की उदासीनता के खिलाफ राष्ट्रीय राजधानी में कॉलेज एवं विश्वविद्यालयों के हजारों के शिक्षकों के प्रदर्शन का मुद्दा उठाया। 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You