उज्जैन पशु मेलाः 11 हजार रुपए में बिके 'राम रहीम और हनीप्रीत'

  • उज्जैन पशु मेलाः 11 हजार रुपए में बिके 'राम रहीम और हनीप्रीत'
You Are HereNational
Monday, November 06, 2017-12:28 AM

उज्जैन: राम रहीम और हनीप्रीत देशभर में एक ब्रांड बन चुके हैं। तभी तो उनके नाम पर रखी कोई चीज हाथों-हाथ बिक जाती है। एेसा ही नजारा उज्जैन के पशु मेले में देखने को मिला। जहां कार्तिक पशु मेले में आए एक व्यापारी ने अपने गधे का नाम राम रहीम और गधी का हनीप्रीत रखा था। जैसे ही दोनों मेले में पहुंचे तो मेले में आने वाले हर शख्स की निगाह इन पर टिकी गई। उज्जैन के एक खरीदार ने इन्हें तुरंत 11 हजार रुपए में खरीदा लिया। 

नाम देने में हुआ संकोच, क्योंकि गधे मासूम और ये दुष्ट
उज्जैन में हर साल देवउठनी ग्यारस से लेकर कार्तिक पूर्णिमा तक गधों का मेला लगता है। एमपी के अलावा गुजरात, हरियाणा, राजस्थान और महाराष्ट्र सहित कई राज्यों के पशु-पालक कुम्हार और व्यापारी इस मेले में गधों की खरीदी-बिक्री के लिए आते है। राम रहीम और हनीप्रीत को लेकर आए हरिओम ने बताया कि गुजरात ब्रीड के इन दोनों गधों को एक ही व्यक्ति ने खरीदा। मैंने इनके 21 हजार मांगे थे लेकिन सौदा 11 हजार में पटा। हरिओम ने बताया कि मुझे अपने गधों को राम रहीम और हनीप्रीत नाम देने में काफी संकोच हो रहा था, क्योंकि मेरे गधे मासूम है जबकि ये दोनों शातिर और दुष्ट प्रवृति के लोग हैं। हालांकि बाद में मैंने ये सोचकर नाम दिया कि इनके नाम पर हमेशा वजन लदा रहेगा।

राम रहीम के अलावा सुल्तान और बाहुबली भी बिके
इस मेले की खासियत ये है कि गधे बेचने वाले व्यापारी हर एक गधे का एक नाम रखते है। गधे का नाम उसकी पीठ पर लिख दिया जाता है। नाम देखकर पूछने पर व्यापारी गधे की किस्म और उसके दाम बता देता है, फिर खरीदार उसका आकलन कर मूल भाव करके उसे खरीद लेता है। किस्म के आधार पर यहां गधे 5 से 25 हजार रूपए तक में बिकते है। इस बार मेले में राम-रहीम और हनीप्रीत के अलावा जियो 4जी, जीएसटी, सुलतान, बाहुबली और बाजीगर नाम के गधे भी बिकने आए थे। 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You