नोटबंदी के बाद बड़ा फैसला लेने की तैयारी में रामदेव

  • नोटबंदी के बाद बड़ा फैसला लेने की तैयारी में रामदेव
You Are HereNational
Saturday, December 17, 2016-10:44 AM

नई दिल्लीः बाबा रामदेव अब पूरी तरह से केंद्र सरकार की कैशलेस इकॉनमी की पहल के साथ खड़े दिखाई दे रहे हैं। वह पतंजलि स्टोर्स को डिजिटल पेमेंट के लिए तैयार करने में लगे हैं। इसके लिए नवंबर के दूसरे सप्ताह में उन्होंने 5 बैंकों से बातचीत की थी। इस बातचीत में उन्होंने बैंकों से पतंजलि के सभी स्टोर्स को लिंक करने के लिए कहा था ताकि ग्राहक के लिए कार्ड, वॉलिट और अन्य डिजिटल माध्यमों से पेमेंट करने की सुविधा शुरू हो सके।

गरीब को मिले हर प्रॉडक्ट
नोटबंदी के कारण नोटों की कमी हो गई और लोगों को कैश निकालने के लिए बैंकों और एटीएम की की कतारों में इंतजार करना पड़ रहा है। रामदेव के सहयोगी और पतंजलि के सीईओ आचार्य बालकृष्ण ने कहा, हमारा प्रयास है कि कैश की चाहत में किसी भी गरीब व्यक्ति को हमारे प्रॉडक्ट देने से मना न किया जाए। 50 रुपए से अधिक की खरीद पर डिजिटल माध्यम से पेमेंट की सुविधा पर विचार किया जा रहा है। नोटबंदी के बाद सभी स्टोर्स को दिशानिर्देश जारी किए गए थे कि अगर किसी गरीब व्यक्ति के पास कैश नहीं है तो उसे उधारी पर प्रॉडक्ट दे दें। पूरे देश में पतंजलि के 5,300 से ज्यादा स्टोर हैं। 

डिजिटल पेमेंट से लेकर ई वॉलिट तक 
बाबा रामदेव ने जिन पांच बैंकों के साथ मुलाकात की थी उनमें स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, ऐक्सिस बैंक, पंजाब नैशनल बैंक, आईसीआईसीआई बैंक और एचडीएफसी बैंक का नाम शामिल है। बालकृष्ण ने कहा, डिजिटल पेमेंट से लेकर ई वॉलिट तक हम चाहते हैं कि सभी डिजिटल सुविधा हमारे स्टोर्स में उपलब्ध हो। बता दें कि नोटबंदी के ऐलान के बाद बाबा रामदेव ने पीएम मोदी का समर्थन किया था। हालांकि उन्होंने यह भी कहा था कि सरकार ने इसे लागू करने के लिए कम तैयारी की थी और इस वजह से लोगों को परेशानी हो रही है। 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You