चुप बैठी सरकार, अब इस शख्स काे है किसी फरिश्ते का इंतजार

You Are HereNational
Monday, April 17, 2017-7:01 PM

मोतिहारीः बिहार के माेतिहारी की रहने वाली एक महिला जूली के पति रुपेश कुमार पाण्डेय मुंबई के ग्लोबल अस्पताल में जिंदगी और मौत से जूझ रहे हैं। परिवार में अकेले कमाने वाले 41 साल के रुपेश की स्थिति तेजी से बिगड़ रही है। उनका लिवर खराब हो चुका है, जिसके ट्रांसप्लांट के लिए 25 लाख रुपए की जरूरत है। लेकिन नोटबंदी के बाद से न ताे उनकी जमीन बिक रही है और न ही मकान। उनके घर के जेवर व बचे-खुचे पैसे अब तक के इलाज में खर्च हो चुके हैं। प्रधानमंत्री कार्यालय से मदद मांगने पर भी उनके हाथ निराशा ही लगी है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव सहित कई बड़े नेताअाें, मंत्रियाें से मदद मांगने के अलावा फिल्म स्टार सलमान खान और उनकी संस्था वीईंग ह्यूमन, अक्षय कुमार, आमिर खान, शाहरुख खान और उद्योग पति मुकेश अंबानी से भी ट्विटर के जरिए मदद मांगी। इस परिवार के पास किस-किस को और कहां-कहां गुहार लगाई, सबके प्रमाण मौजूद हैं। 

PunjabKesari

क्रॉनिक लीवर डिजीज से ग्रस्त हैं रुपेश
सभी तरफ से नाउम्मीद हाेने के बाद अब इस परिवार को किसी फरिश्ते का इंतजार है। परिवार ने अब देशवासियाें से मदद की गुहार लगाई है। इस बदनसीब इंसान की बेबसी और लाचारी सिस्टम पर करारा चोट करती है। बता दें कि रुपेश पांडेय को क्रॉनिक लिवर डिजीज है। यह बीमारी हेपेटाइटिस बी से संबंधित है। वे मुंबई के ग्लोबल हॉस्पिटल में एडमिट हैं। वहां के डिपार्टमेंट आॅफ हेपटोलॉजी के हेड डॉ. समीर आर शाह ने अविलंब लिवर ट्रांसप्लांट की एडवाइस दी है। रूपेश की पत्नी का कहना है कि क्या मेरे पति का ऑपरेशन इसलिए नहीं होगा कि वह गरीब है? इंसानी जान की कीमत क्या कुछ भी नहीं? जूली का दर्द उस बेजार व्यवस्था की पोल खोलता है, जिसमें अमीर-गरीब के बीच का फर्क साफ दिखता है। 

PunjabKesari
 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You