लगाई गुहार : कर्मचारी बोले ठेकेदार से दिला दो हमारे दस्तावेज, नहीं तो भूखा मर जाएगा परिवार

  • लगाई गुहार :  कर्मचारी बोले ठेकेदार से दिला दो हमारे दस्तावेज, नहीं तो भूखा मर जाएगा परिवार
You Are HereChandigarh
Monday, November 21, 2016-7:45 AM

चंडीगढ़(रश्मि रोहिला) : मनीमाजरा स्थित पॉकेट नंबर-1 के गवर्नमैंट मिडल स्कूल में 7 फोर्थ क्लास कर्मचारियों को नौकरी से निकालने के बाद भी ठेकेदार उनके सर्टीफिकेट नहीं लौटा रहा है। कर्मचारी परेशान हैं और सर्टिफिकेट के लिए ठेकेदार के पास चक्कर लगा रहे हैं। ठेकेदार अमित गुलाटी ने 14 अगस्त, 2015 को 7 लोगों को फोर्थ क्लास अप्लॉय के तौर पर नौकरी पर रखा था। नौकरी पर रखते समय ठेकेदार ने इन सातों कर्मचारियों के असली दस्तावेजों को लौटा देने की शर्त पर अपने पास रख लिया था, लेकिन इन सातों कर्मियों का आरोप है कि नौकरी से निकाल देने के बावजूद भी ठेकेदार ने इनके असली दस्तावेजों को अपने कब्जे में रखा हुआ है। कर्मचारियों ने कहा कि जब उन्होंने ठेकेदार से अपने असली दस्तावेज मांगे तो उसने साफ इंकार कर दिया कि उसके पास किसी प्रकार के कोई दस्तावेज नहीं हैं।

 

शिक्षा विभाग व पुलिस को दी शिकायत :

कर्मचारी संदीप ने बताया कि असली दस्तावेज न देने की शिकायत वे शिक्षा विभाग व पुलिस में भी कर चुके हैं, लेकिन न तो शिक्षा विभाग द्वारा इस पर अभी तक कोई कार्रवाई की गई और न ही पुलिस विभाग द्वारा। संदीप ने बताया कि शिक्षा विभाग ने एक जांच कमेटी जरूर बैठाई थी, जिसमें स्कूल की शिक्षक ज्योति शर्मा का नाम भी था। 

 

वेतन से 22,176 रुपए का कर रहा था गबन :
संदीप ने आरोप लगाया कि जब वे शुरूआत में नौकरी पर लगे तो स्कूल का ठेकेदार और हैड इंचार्ज प्रति महीने कर्मचारियों के वेतन से 22,176 रुपए का गबन करता था। जिसके चलते हमें तय डी.सी. रेट पर वेतन न मिलकर कम दिया जाता था। जब हमने इस बारे में ठेकेदार से पूछा तो उसने सभी का तबादला करने की धमकी देते हुए चुप रहने को कहा। इसके बाद ठेकेदार ने जयकृष्ण व हरि कृष्ण का तबादला कर दिया और दो माह की सैलेरी नहीं दी और बाकियों को नौकरी से निकाल दिया था, लेकिन शिक्षा विभाग ने फिर से उन्हें रखवाया गया। संदीप ने बताया कि जब शिक्षा विभाग ने ठेकेदार को कर्मचारियों का बकाया वेतन देने के लिए कहा तो ठेकेदार ने यह कहकर पल्ला झाड़ लिया कि उसने पहले ही एडवांस बीस हजार दिया हुआ है और फिर चोरी का नाम लगाकर नौकरी से निकाल दिया, लेकिन दस्तावेज वापस नहीं किए।

 

दस्तावेज न होने के कारण नहीं मिल रही नौकरी :
दस्तावेज ठेकेदार के कब्जे में होने के चलते किसी भी कर्मचारी को नौकरी नहीं मिल पा रही है। कर्मचारियों का कहना है कि वे सभी घर में इकलौते ही कमाने वाले हैं। जब से नौकरी से निकाले गए हैं तब से अब तक न तो नौकरी मिल पा रही है और न ही इस मामले में कोई सुनवाई कर रहा है। यदि ठेकेदार से हमारे दस्तावेज न दिलवाए गए तो हमारा परिवार भूखा मर जाएगा।

   

कर्मचारी                        पद                        दस्तावेज      
जय किशन                    सिक्योरिटी गार्ड                दसवीं प्रमाण पत्र                                    
हरी किशन                          गेट कीपर                आठवीं प्रमाण पत्र                                   
प्रदीप                                 माली                     दसवीं प्रमाण पत्र                                             
प्रिया गेहलोत                        पियन                    दसवीं प्रमाण पत्र                                           
राहुल                               सफाई कर्मचारी           पहचान पत्र                                    
संदीप                               सफाई कर्मचारी           आठवीं प्रमाणपत्र                                   
रविंदर                               सफाई कर्मचारी           -


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You