संडे का गुडलक: सूर्यदेव ऐसे करेंगे सभी रोगों का अंत

You Are HereDharm
Sunday, November 19, 2017-7:30 AM

आज रविवार दी॰ 19.11.17 मार्गशीर्ष शुक्ल प्रतिपदा पर सूर्य पूजन श्रेष्ठ रहेगा। वैदिक मतानुसार सूर्यदेव समस्त जीव-जगत के आत्मस्वरूप हैं। यही अखिल सृष्टि के आदि कारण भी हैं। यही एकमात्र प्रत्यक्ष आदि देव हैं। पौराणिक मतानुसार सूर्य महर्षि कश्यप व माता अदिति के पुत्र हैं। भविष्य, मत्स्य, पद्म, ब्रह्म, मार्कण्डेय व सांब आदि पुराणों में सूर्य परिवार की विस्तृत कथा वर्णित है। इनकी पहली पत्नी विश्वकर्मा पुत्री संज्ञा व दूसरी पत्नी छाया है। अश्विनी कुमार, वैवस्वत-मनु, यमराज, यमुना, शनि, सावर्णि-मनु, तपती इनकी संताने हैं तथा कपिराज सुग्रीव व महारथी कर्ण इनके अंश से उत्पन्न हुए थे। पक्षिराज गरुड़ के बड़े भाई अरुण सूर्य के रथ को हांकते हैं। सूर्य ही शिव का एक नेत्र व भगवान विराट के नेत्र को अभिव्यक्त करते हैं। ज्योतिषशास्त्र के काल-पुरुष सिद्धांतानुसार सिंह राशि के अधिपति सूर्य को आदत, पेट, गर्भ, शिक्षा, संतान, ज्ञान और दृष्टि का स्वामी माना गया है। रविवार मार्गशीर्ष शुक्ल प्रतिपदा पर सूर्य के विशिष्ट उपासना व उपायों से समस्त रोगों, नेत्र दोषों, ग्रह पीड़ाओं का शमन होता है तथा सभी कामनाओं की पूर्ति होती है।


विशेष पूजन विधि: प्रातःकाल सूर्यदेव का विधिवत पूजन करें। सिंदूर युक्त गौघृत से दीप करें, गुग्ल धूप करें, रोली, हल्दी, सिंदूर व चंदन चढ़ाएं। सफेद, पीले व लाल फूल चढ़ाएं। अंजीर का फलाहार चढ़ाएं। गेहूं व गुड़ का भोग लगाएं तथा लाल चंदन की माला से इस विशेष मंत्र का 1 माला जाप करें। पूजन उपरांत फलाहार व भोग लाल गाय को खिलाएं।


पूजन मुहूर्त: प्रातः 08:45 to से प्रातः 10:45 तक।


पूजन मंत्र: ॐ आदित्याय विद्महे दिवाकराय धीमही तन्नो सूर्यः प्रचोदयात्॥


आज का शुशाशुभ
आज का अभिजीत मुहूर्त:
दिन 11:45 से दिन 12:27 तक।
आज का अमृत काल: प्रातः 10:27 से दिन 12:14 तक।
आज का राहु काल: शाम 16:02 से शाम 17:21 तक। 
आज का गुलिक काल: दिन 14:44 से शाम 16:02 तक। 
आज का यमगंड काल: दिन 12:06 से दिन 13:25 तक।


यात्रा मुहूर्त: आज दिशाशूल पश्चिम व राहुकाल वास उत्तर में है। अतः पश्चिम व उत्तर दिशा की यात्रा टालें।


आज का गुडलक ज्ञान
आज का गुडलक कलर: लाल।
आज का गुडलक दिशा: पूर्व।
आज का गुडलक मंत्र: ॐ पद्मप्रबोदाय नमः॥
आज का गुडलक टाइम: दिन 13:00 से दिन 14:0 तक।


आज का बर्थडे गुडलक: नेत्र दोषों से मुक्ति हेतु सूर्यदेव पर चढ़े जल से आंखें धोएं।


आज का एनिवर्सरी गुडलक: समस्त रोगों के शमन हेतु सूर्यदेव पर जायफल चढ़ाकर जलप्रवाह करें।


गुडलक महागुरु का महा टोटका: सर्व कामनाओं की पूर्ति हेतु शहद व सिंदूर मिले दूध से सूर्य को अर्घ्य दें।


आचार्य कमल नंदलाल
ईमेल: kamal.nandlal@gmail.com

 

Edited by:Aacharya Kamal Nandlal
यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You