शहर को कैशलैस सिटी बनाने की तैयारी, 6 बैंक कर रहे सहयोग

  • शहर को कैशलैस सिटी बनाने की तैयारी, 6 बैंक कर रहे सहयोग
You Are HereNational
Thursday, December 15, 2016-12:05 AM

चंडीगढ़, (आशीष): 15 दिसम्बर तक सभी विभागों को कैशलैस करने को लेकर रोजाना मीटिंग की जा रही हैं। अभी कुछ ही विभागों में कैशलैस सुविधाएं शुरू हो चुकी हैं। सभी विभागों मे प्रशासन को दो हजार से अधिक स्वाइप मशीनों की जरूरत है लेकिन बैको की स्थिति यह है कि वे कम समय मे अधिक स्वाइव मशीनें उपलब्ध करना मुश्किल है। सभी विभागों में शुरू में एक ही स्वाइप मशीन लग पाई है।

 बैंक के अधिकारियो का कहना है कि स्वाइप मशीनें सिंगापुर से मंगवाई जाती हैं। वहीं बैंक ऑफ बड़ौदा की ओर से स्वाइप मशीन का डैमो भी दिया गया, जिसमें कर्मचारियों को सिखाया गया कि कैसे मशीन का प्रयोग किया जाए। प्रशासन की ओर से इसी सप्ताह एस्टेट आफिस और उपायुक्त कार्यलय को कैशलैस करने की तैयारी है। उपायुक्त कार्यलय मे होने वाली सभी पब्लिक डीलिंग से लेकर अन्य पेमैंट को कैशलैस किया जाएगा जिसके तहत सभी पब्लिक डीलिंग्स को कैशलैस करते हुए डिजिटल मोड ऑफ पेमैंट लागू किया जा सके। इस प्रक्रिया में बैंक ऑफ बड़ौदा सहयोग कर रहा है।

बैंक की ओर से एस्टेट ऑफिस और उपायुक्त कार्यलय मे 12-12 मशीनें स्थापित की जाएंगी। इससे पहले बैंक की ओर से आर.एल.ए. में 10 मशीनें लगाई जा चुकी है। उपायुक्त अजीत बालाजी जोशी के नेतृत्व कैशलैस सिटी बनाने के लिए बैठक का आयोजन किया जा रहा है। प्रशासनिक अधिकारी मे ए.डी.सी. राजीव कुमार गुप्ता, एस.डी.एम. डा.तपस्या राघव,कीॢत गर्ग के अलावा बैंकों के अधिकारी भी शामिल हुए।

प्रशासनिक कार्यालयों को कैशलैस बनाने के लिए बैक ऑफ बड़ौदा, आई.सी.आई.सी.आई.,एच.डी.एफ.सी., एक्सिस, ओ.बी.एस. तथा स्टेट बैक ऑफ इंडिया सहयोग कर रहे है। बैंक ऑफ बड़ौदा के डिवैल्पमैंट मैनेजर एंव चीफ मैनेजर राकेश चड्ढा ने बताया कि विभागों के अकाऊंट खोल दिए हैं।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You