अय्यर के इस बयान ने राहुल के अरमानों पर फेरा पानी!

  • अय्यर के इस बयान ने राहुल के अरमानों पर फेरा पानी!
You Are HereNational
Thursday, December 07, 2017-6:36 PM

नेशनल डेस्क: जहां एक तरफ गुजरात विधानसभा को लेकर कांग्रेस और भाजपा पूरी ताकत झोंक रही हैं वहीं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मणिशंकर अय्यर के बयान से राजनीतिक तुफान आ गया। ऐसा लगता है कांग्रेस नेता पार्टी को डुबाने का मन बना चुके हैं। दरसल अय्यर ने आज अपने एक बयान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को नीच कह डाला, जिसके बाद सुलगती चिंगारी ने आग का रूप ले लिया। पीएम मोदी ने अय्यर के इस बयान का जोरदार पलटवार करते हुए कहा कि भले ही मैं नीच जाती से हूं लेकिन मैंने काम ऊंचे किए हैं। 

राहुल ने पार्टी को दी थी निजी हमले न करने की नसीहत
वहीं कांग्रस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भी अय्यर के इस बयान को विरोध करते हुए उन्हे माफी मांगने को कहा जिसके बाद पार्टी के वरिष्ठ नेता ने अपने बयान को लेकर माफी मांग ली। अब सवाल यह उठता है कि कांग्रेस नेता का यह बयान पार्टी को किस ओर लेकर जाएगा। बता दें कि चुनावी माहौल में चल रही राजनीतिक बयानबाजी के बीच राहुल ने अपनी पार्टी के नेताओं को नसीहत दी थी कि वो चुनाव प्रचार के दौरान शब्दों की गरिमा का ध्यान रखें। हालांकि, इसके पीछे सियासी मायने थे। कांग्रेस नहीं चाहती है कि गुजरात में जिन मुद्दों को लेकर वो भाजपा पर हावी है, चर्चा उससे डायवर्ट हो। 

अय्यर के बयान से गरमाई राजनीति
दूसरी वजह ये भी थी कि अतीत में कांग्रेस नेताओं के बयान उनके गले की हड्डी बन चुके हैं। गुजरात दंगों के बाद 2007 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पीएम को ‘मौत का सौदागर’ कहा था, जिसके बाद उस पर काफी विवाद हुआ था। ऐसे में राहुल नहीं चाहते थे कि गुजरात चुनाव में उनके प्रति बन रहे माहौल को झटका लगे और भाजपा किसी बयान के आधार पर कांग्रेस पर हमलावर हो। लेकिन अय्यर के इस बयान के बाद जिस तरह राजनीति गरमा चुकी है इससे तो गुजरात चुनाव को लेकर राहुल के सारे अरमानों पर पानी फिरता हुआ दिखाई दे रहा है। 

2014 में पीएम को कहा था ‘चायवाला’
बता दें कि यह पहली बार नहीं है अय्यर ने इस तरह का बयान दिया हो इससे पहले भी वह पीएम मोदी पर हमला कर चुके हैं। वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव के पहले जब भाजपा ने चाय पर चर्चा कार्यक्रम शुरू किया था तब कांग्रेस के अधिवेशन में बैठकर कांग्रेस नेता ने बेहद अपमानजनक लहजे में कहा था कि इक्कीसवीं सदी में नरेंद्र मोदी कभी भी इस देश के प्रधानमंत्री नहीं बन सकते। हां अगर वो चाय का वितरण करना चाहते हैं तो हम उनके लिए यहां पर कुछ इंतजाम कर देंगे। लेकिन 2014 के लोकसभा चुनाव में जनता ने कांग्रेस पार्टी को 44 सीटों पर ला दिया और मणिशंकर अय्यर काे मुंह की खानी पड़ी थी। 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You