ठंड के बावजूद नहीं रुके हजारों पैंशनरों के कदम, पुलिस ने पानी की बौछारों से किया स्वागत

  • ठंड के बावजूद नहीं रुके हजारों पैंशनरों के कदम, पुलिस ने पानी की बौछारों से किया स्वागत
You Are HereNational
Wednesday, December 14, 2016-11:20 AM

मोहाली (नियामियां): पंजाब भर के मुलाजिम और पैंशनरों ने आज अपनी मांगों को लेकर मोहाली के फेज-6 में जबरदस्त रोष प्रदर्शन करते हुए चंडीगढ़ की तरफ रोष मार्च करने का यत्न किया। इन पैंशनरों और मुलाजिमों को चंडीगढ़ और मोहाली पुलिस ने पानी की बौछारें मार कर और बैरीकेड लगा कर चंडीगढ़ में प्रवेश करने से पहले ही रोक लिया। इन मुलाजिमों का दोष था कि सरकार ने उनकी मांगों स्वीकार करने के बावजूद भी लागू नहीं की। मुलाजिम विरोधी फैसले करें, लगातार बढ़ते पुलिस जबर विरुद्ध और 12 सूत्रीय मांगों को लेकर वह आज विशाल हल्ला बोल रैली करके चंडीगढ़ की तरफ मार्च करने के लिए आए हैं ताकि सो रही सरकार को जगाया जा सके। 

 

पैंशनरों को चंडीगढ़ में दाखिल होने से पहले रोका
मार्च कर रहे बड़ी संख्या में मुलाजिमों और पैंशनरों को चंडीगढ़ में दाखिल होने से पहले ही चंडीगढ़ और मोहाली पुलिस ने बैरियर लगाकर रोक लिया तथा हलकी बौछारें भी की, जहां कई मुलाजिमों की पगडिय़ां भी उतर गई। इस के बाद मुलाजिमों ने यहां ही धरना लगा दिया। धरने पर बैठे मुलाजिमों से मांग पत्र लेने के लिए मोहाली के ए.डी.सी. चरनजीत सिंह पहुंचे, उन्होंने संघर्ष कर रहे मुलाजिमों को भरोसा दिलाया कि जल्दी ही उनकी मीटिंग मुख्य मंत्री के साथ करवाई जाएगी। मार्च से पहले रैली को मुलाजिम और पैंशनर सांझा मुहाज के कन्वीनरों नछत्तर सिंह भाई रुपा, रणबीर ढिल्लों, वेद प्रकाश, सज्जण सिंह, भूपिंदर सिंह वड़ैच, सुखदेव सिंह रोपड़, प्रेम सागर शर्मा, केवल सिंह कपूरथला, महिंद्र सिंह फिरोजपुर और हरी सिंह टौहड़ा ने अपने संबोधन में सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि यदि सरकार ने मांगें मानने बारे नोटीफिकेशन जारी न किया तो अगला संघर्ष और तीखा होगा। 

 

कम वेतन पर भर्ती कर नौजवानों का हो रहा शोषण
इस मौके नेताओं ने अपने संबोधन में मांग की कि 125 प्रतिशत महंगाई भत्ता बेसिक वेतन में मर्ज करके 20 प्रतिशत अंतरिम रिलीफ 1 जनवरी 2016 से लागू करना, महंगाई भत्ते चार किस्तों के 33 महीनों के बकाए का एक मुश्त भुगतान करना, सुप्रीम कोर्ट के बराबर काम बराबर वेतन देने के फैसले को लागू करते बिना शर्त सभी ठेका और दैनिक वेतन भोगी मुलाजिम रैगुलर किया जाए। नेताओं ने कहा कि बादल सरकार की तरफ से 9 सालों से नौकरियां पर लगाई रोक और ठेकेदारी प्रथा लागू करते आधी से कम वेतन पर भर्ती करके नौजवानों का शोषण कर रही है। 

 

पैप्सू रोडवेज को लगाया 200 करोड़ का चूना 
नेताओं ने कहा कि ठेका मुलाजिमों को रैगुलर करने संबंधित मंत्री मंडल की तरफ से लिया गया फैसला मात्र नाटक है। इस मौके नेताओं ने कहा कि पंजाब की बादल सरकार की नीतियों के कारण पंजाब रोडवेज और पैपसू रोडवेज को 200 करोड़ का चूना लगाया गया है। मिनिस्ट्रियल स्टाफ के नेताओं ने कहा कि बादल सरकार द्वारा संघर्ष करते मुलाजिमों पर जगह जगह जबर किया जा रहा है, आशा वर्करों और मिड डे मील कुक और स्कीम मुलाजिमों के वेतन में विस्तार किया जाए। उन्होंने कहा कि सामाजिक सुरक्षा देने से इंकार करने ने जलती हुई पर तेल पाया है। 


 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You