रेल टिकट काऊंटर पर भी दिखा छुट्टे पैसे का असर, टिकट लेने के लिए लेना पड़ रहा दूसरे यात्री का सहारा

  • रेल टिकट काऊंटर पर भी दिखा छुट्टे पैसे का असर, टिकट लेने के लिए लेना पड़ रहा दूसरे यात्री का सहारा
You Are HereChandigarh
Monday, November 14, 2016-7:45 AM

चंडीगढ़(लल्लन) : अगर आप चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन पर अनारक्षित टिकट लेने जा रहें हैं तो साथ में आपको सहयोगी ले जाना जरूरी होगी। ऐसा इसलिए क्योंकि रेल टिकट काऊंटर पर कर्मियों के पास छुट्टे पैसे ही नहीं हैं। ऐसे में अधिकारियों का कहना है कि अगर आपके पास 1000 या 500 रुपए का नोट है तो साथ में एक सहयोगी भी तलाश लाओ, क्योंकि रेलवे के पास खुले पैसे ही नहीं हैं। इस कारण पैसे वापस करना उनके लिए मुश्किल है। जानकारी के अनुसार चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन से लखनऊ जाने वाले यात्रियों का किराया अनारक्षित टिकट का 200 रुपए है। यात्री टिकट काऊंटर पर 500 का नोट दे रहा है तो रेलवे कर्मियों का कहना है कि साथ में एक और यात्री लाओ उसके बाद टिकट मिलेगी। 

 

खुले पैसे वापस करना मुश्किल :
रेलवे अधिकारियों के मुताबिक लोगों के पास 500-500 के अधिक नोट आ रहे हैं। यात्रियों द्वारा जो टिकट खरीदी जा रही है वह 200 व 300 रुपए के आसपास होती है। ऐसे में हर यात्री को बकाया वापस करना मुश्किल हो रहा है। 

 

स्टेशन पर दो ए.टी.एम. बंद :
यात्रियों की सुविधा के लिए बैंकों की तरफ से स्टेशन पर 3 ए.टी.एम. लगाए गए हैं, लेकिन जबसे 500 व 1000 के नोटों पर पाबंदी लगाई है तभी से स्टेशन पर दो ए.टी.एम. ने काम करना ही बंद कर दिया है जबकि भारतीय स्टेट बैक का ए.टी.एम. 12 नवम्बर से चल रहा है, लेकिन उसमें भी कैश 2 बजे के बाद ही डाला जा रहा है। इस कारण यात्रियों को काफी कठिनाइयां पेश आ रही हैं। 

 

यात्री खोज रहे दूसरा यात्री :
अनारक्षित टिकट काऊंटर पर कर्मियों की ओर से सहयोगी लाने के नाम पर यात्रियों की तरफ से सहयोगी तलाशने के लिए भागदौड़ स्टेशन पर की जा रही है। इस कारण स्टेशन पर कई यात्री ऐसे भी दिखे जो यात्रियों से पूछ रहे थे कि आपने कहां जाना है। सहयोगी लाने व तलाशने के कारण स्टेशन के अनारक्षित टिकट काऊंटर पर यात्रियों की लंबी लाइन लगी हुई है। 

 

नहीं मिल रही चाय व पानी :
नोट बंदी के बाद रेलवे यात्रियों को काफी कठिनाई का सामना करना पड़ रहा हैं। टिकट काऊंटर पर भी कर्मचारियों की ओर से 100 के नोट नहीं दिए जा रहे। स्टेशन के टी-स्टॉल संचालकों की ओर से भी पुराने नोट नहीं स्वीकार किए जा रहे। इसके अलावा दुकानदारों द्वारा 10 के सिक्के लेने से भी मना किया जा रहा है। इस कारण यात्रियों को पानी व चाय के लिए भी तंग होना पड़ रहा है। 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You