जेतली गुजरात के लिए बोझ, लोगों को कुर्सी छोडऩे की मांग करने का पूरा हक - यशवंत सिन्हा

  • जेतली गुजरात के लिए बोझ, लोगों को कुर्सी छोडऩे की मांग करने का पूरा हक - यशवंत सिन्हा
You Are HereLatest News
Tuesday, November 14, 2017-4:50 PM

अहमदाबादः भाजपा के बागी नेता व पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने मंगलवार को कहा कि मौजूदा वित्त मंत्री अरूण जेतली को वह गुजरात पर ‘बोझ’ मानते हैं और जीएसटी को लागू करने में गड़बड़ी और इस मामले में ‘चित मैं जीता, पट तुम हारे’ की तर्ज पर बर्ताव कर रहे इस मंत्री से कुर्सी छोड़ने की मांग का जनता का वाजिब हक मानते हैं। 

हालांकि देश में कारोबारी सुगमता यानी इज ऑफ डूइंग बिजनेस के मामले में विश्व बैंक की रिपोर्ट में भारत की स्थिति में सुधार का उन्होंने स्वागत किया और कहा कि यह प्रत्येक भारतीय के लिए गर्व की बात है पर मुश्किल यह है कि देश के बाहर की वाहवाही को स्वीकार करने वाले हम लोग देश के अंदर से होने वाली आलोचना को खारिज कर देते हैं। जबकि जरूरी यह है कि हमे इस बात की अधिक चिंता करनी चाहिए कि दुनिया की तुलना में भारत के लोग हमारे बारे में क्या सोचते हैं। 

तो उनकी जगह किसी गुजराती को मौका मिला होता
देश की आर्थिक स्थिति पर पिछले दिनों अपने लेख में मोदी सरकार पर हमला बोल सियासी तूफान उठाने वाले सिन्हा ने पत्रकारों से बातचीत कहा कि गुजरात से राज्यसभा के लिए चुने गये अरूण जेतली राज्य की जनता के लिए बोझ जैसे हैं।  उन्होंने जेटली के खिलाफ अपनी तल्खबयानी जारी रखते हुए कहा, ‘मैं वित्त मंत्री को गुजराती नहीं मानता। वह गुजरात से राज्यसभा के लिए चुने गए होंगे पर वे आप पर बोझ हैं। अगर वह नहीं चुने जाते तो उनकी जगह किसी गुजराती को मौका मिला होता।बता दें, अरूण जेतली गुजरात से साल 2012 में राज्यसभा के लिए चुने गए थे। फिलहाल गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा के प्रभारी भी हैं।

जीएसटी बेहतर लेकिन गलत तरीके से लागू की गई
कथित तौर पर कांग्रेस समर्थित एक एनजीओ लोकशाही बचाओ आंदोलन के आमंत्रण पर गुजरात में चुनावी माहौल के बीच अहमदाबाद, राजकोट और वडोदरा में देश की आर्थिक स्थिति पर बोलने के लिए आए यशवंत सिन्हा ने कहा कि जीएसटी एक बेहतर कर प्रणाली है पर इसे गलत तरीके से लागू किया गया है। जेतली इसमें सभी गड़बड़ी के लिए जिम्मेदार है और इसके जरिए उन्होंने देश पर एक बहुत ही गलत ढंग वाली कर प्रणाली थोप दी है और अब इसमें अस्थाई अथवा तदर्थ अंदाज में बदलाव कर ‘चित मैं जीता पट तुम हारे’ की नीति पर चल रहे हैं। एेसे में देश और देश की जनता को उनको पद से हटाने की मांग करने का पूरा हक है। 

मोदी ने मुख्यमंत्री रहते जीएसटी का किया था विरोध
इस दौरान यशवंत सिन्हा ने जीएसटी के मौजूदा स्वरूप में बदलाव के लिए कई सुझाव भी दिए। एक प्रश्न के उत्तर में सिन्हा ने यह भी स्वीकार किया कि मोदी के गुजरात सीएम रहते जीएसटी का विरोध किया था और राज्य के तत्कालीन वित्त मंत्री सौरभ पटेल का यह बयान कि इससे गुजरात को नौ हजार करोड का नुकसान होगा अब भी संसदीय कार्यवाही की रिकार्ड में है। उन्होंने यह भी कहा कि नोटबंदी और जीएसटी ने देश की अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचाया है और अराजकता जैसी स्थिति पैदा की। 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You