जानिए, 2016 में कब-कब छलके PM मोदी के आंसू

  • जानिए, 2016 में कब-कब छलके PM मोदी के आंसू
You Are HereNational
Saturday, December 17, 2016-12:53 PM

नई दिल्ली: पीएम नरेंद्र मोदी देश की वो शख्सियत हैं जो देखते ही देखते विश्व में सबसे ताकतवर लोगों की सूची में शामिल हो गए। कभी अपनी शांत और कभी कड़े फैसले लेने वाली छवि के साथ में वो देश ही नहीं दुनिया भर में भी मशहूर हुए हैं। यहीं नहीं मोदी के भाषण को सुनने के लिए लोग बेताब रहते हैं। उनकी रैली में मौजूद लोगों की भीड़ से उनकी लोकप्रियता बखूबी अंदाजा लगाया जा सकता है, लेकिन कई बार ऐसा हुआ जहां 56 इंच का सीना रखने वाले मोदी के आंखों से आंसू भी छल पड़े। आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि साल 2016 में कब-कब मोदी के आंसू छलके।

रोहित वेमुला की मौत का जिक्र करते वक्त भावुक हुए मोदी
साल 2016 की शुरूआत में ही मोदी की आंखों से छलकते हुए आंसू नजर आ गए थे। 2016 के शुरूआती महीने जनवरी में मोदी बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह के दौरान छात्रों को संबोधित करने गए थे। रोहित वेमुला की मौत का गुस्सा छात्रों में शुरू से ही था, और उसी रोष का सामना मोदी को अपने खिलाफ मोदी मुर्दाबाद के नारे के साथ करना पड़ा। जैसे ही मोदी ने अपने भाषण की शुरूआत की, छात्रों ने उनके खिलाफ जमकर नारेबाजी करना शुरू कर दिया था। मोदी ने फिर भी भाषण को जारी रखा और भाषण देते देते उनके शब्द आंसुओं में परिवर्तित हो गए जहां भरे हुए गले से उन्होनें कहा कि एक मां ने अपना बेटा खोया है, जिसका दर्द वो महसूस कर सकते हैं। 

नोटबंदी के मुद्दे पर छलके मोदी के आंसू
मोदी ने देश के नाम एक संदेश जारी करते हुए 5000 और 1000 के नोटबंद करने का ऐलान किया और देश में मौजूद भ्रष्टाचारियों को कालेधन और जालीनोट के मुद्दे पर खुली चेतावनी दी थी। इसके बाद मानों धन्नासेठों और धनकुबेर रखने वालों की रातों की नींद उड़ गई। इस मुद्दे को लेकर मोदी के खिलाफ विपक्ष ने जमकर हमला भी बोला और देश में जनता ने पीएम के साथ खड़े होने का दावा भी किया। उन्होंने नोटबंदी की घोषणा 8 नवंबर को थी जिसके बाद वो 13 नवंबर को गोवा में भाषण देने पहुंचे, जहां एक बार फिर वो अपने आंसुओं को नहीं रोक पाए। मोदी ने अपने भाषण के जरिए अपनी भावना व्यक्त की जहां उन्होंने कहा कि मैंने अपना घर परिवार, सबकुछ अपनी भारत माता अपने देश के लिए छोड़ दिया, और ये शब्द फिर से मोदी की आंखों को नम कर गए और फिर से उनके आंसू छलक गए।

बीजेपी के संसदीय दल की बैठक में रोए मोदी
केंद्र सरकार की नोटबंदी योजना को लेकर विपक्ष ने इस कदर घेरा कि मोदी के आंसू निकल आए उन्होनें बीजेपी की संसदीय दल की बैठक में विपक्ष पर अफवाह फैलाने का आरोप लगाया जहां वो बार बार भावुक होते हुए नजर आए थे। 


 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!

Recommended For You