क़र्ज़ मानव जीवन के लिए अभिशाप है। जिस व्यक्ति पर क़र्ज़ है वो व्यक्ति जिन्दा रहते हुए भी चलती - फिरती लाश के समान है ध्यान रखें-


1 मंगलवार को कभी क़र्ज़ न लें।
2 बुधवार को क़र्ज़ न दें।
3 व्यवसाय, मकान बनवाने हेतु क़र्ज़ जन्मकुंडली की विवेचना करवाने के पश्चात लें।
4 प्रत्येक मंगलवार " ऋण मोचक मंगल स्तोत्र " का पाठ अवश्य करें।
5 प्रतिदिन " श्री सूक्त " का पाठ " स्फटिक श्री यंत्र " के सामने करने से लक्ष्मी का आगमन होता है।
6 अगर आप क़र्ज़ की प्रथम किश्त " शुक्ल पक्ष " के प्रथम मंगलवार से प्रारंभ करते है तो शीघ्र आप ऋण से मुक्त हो जायेगे।
7 सुबह उठते ही सबसे पहले एक मुट्ठी चावल पंक्षियों को चुगने के लिए डालिए।
8 घर का सारा कबाड़ अमावस्या या शनिवार को घर से बाहर करिए।
9 घर में कभी कोई भी मेहमान या अचानक कोई भी आए कुछ न कुछ अवश्य खिलाएं नहीं तो पानी तो अवश्य ही पिलाएं।
10 5 मंगलवार हनुमान जी के मंदिर में 5 - 5 पीस मीठे देसी घी के रोट का भोग लगाए।
11 शराब,मांस,नशे की चीजों से दूर रहें।

                                                                                                                            -आचार्य पंडित तिलक मणि जी