BJP से दोस्ती पड़ी भारी, पासवान पर CBI का शिकंजा!

  • BJP से दोस्ती पड़ी भारी, पासवान पर CBI का शिकंजा!
You Are HereNational
Wednesday, February 26, 2014-12:23 PM

नई दिल्ली: लोकजनशक्ति पार्टी के सुप्रीमो रामविलास पासवान पर बोकारो स्टील प्लांट भर्ती घोटाले मामले में सीबीआई जल्द शिकंजा कस सकती है। आरोप है कि साल 2008 में बोकारो स्टील प्लांट प्रबंधन में जूनियर और मिडिल लेवल में हुई भर्ती में घोटाला हुआ है। इस मामले में पूर्व एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर सहित कई बड़े अधिकारी नामजद आरोपी हैं। उच्च सूत्रों के मुताबिक सीबीआई को कई ऐसे उम्मीदवारों के पते मिल गए हैं जो जूनियर और मिडिल लेवल पदों के लिए चयनित हुए थे।

2004 से 2009 तक पासवान मनमोहन सिंह की सरकार में स्टील और रसायन मंत्री थे। सूत्रों ने कहा कि आगामी आम चुनावों के लिए बिहार में सीटों के बंटवारे पर वार्ता कर रहे पासवान कुछ दस्तावेजों की बरामदगी के बाद जांच के घेरे में हैं। इन दस्तावेजों में संकेत मिलते हैं कि हो सकता है कि पासवान के कार्यालय से जुड़े लोग कुछ अभर्थियों को लाभ पहुंचाने में सक्रिय रूप से शामिल रहे हैं।

सीबीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘‘संबंधित मंत्री की मंजूरी के बगैर निचले स्तर के कर्मचारी इस तरह के कदम नहीं उठा सकते। हम इस संबंध में पासवान से पूछताछ कर सकते हैं। पूछताछ को लेकर अंतिम फैसला जांच आगे बढऩे के बाद किया जा सकता है।’’

बतां दें कि लालू प्रसाद यादव और कांग्रेस को छोड़ पासवान लोकसभा चुनावों के लिए बीजेपी के साथ गठबंधन करने की तैयारी कर रहे हैं। वहीं इस मामले पर बीजेपी नेता प्रकाश जावड़ेकर ने कहा, 'कांग्रेस अपने पॉलिटिकल फायदे के लिए हमेशा सीबीआई का इस्तेमाल करती है। अब सीबीआई से डरने की जरूरत नहीं है। जो सही है, उसको कुछ नहीं होगा। जो गलत होगा, वही डरेगा।'

वहीं, बीजेपी नेता शाहनवाज हुसैन ने कहा, 'सीबीआई कांग्रेस की सहयोगी है। जब कांग्रेस का कोई सहयोगी उससे अलग होता है तो कांग्रेस का हिडेन अलाई एक्टिव हो जाता है। एलजेपी के अलग होने की खबर से ही सीबीआई एक्टिव हो गई है।'


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You