पढि़ए, 'मोदी मंत्र' के 13 अध्याय

  • पढि़ए, 'मोदी मंत्र' के 13 अध्याय
You Are HereNational
Wednesday, February 26, 2014-5:45 PM

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी पर आई एक नई किताब में उन्हें एक 'कारोबारी राजनीतिज्ञ' बताते हुए कहा गया हैं कि वह चतुर कारोबारी की तरह लोगों के बीच भेदभाव और लड़ाई झगड़ा को बढ़ावा देने की बजाय अमन शांति से जनता को ग्राहक की तरह मानकर पेशेवराना ढंग से पेश आते हैं।

एक टीवी चैनल के युवा पत्रकार हरीशचंद्र बर्णवाल की इस किताब 'मोदी मंत्र' में मोदी के सार्वजनिक व्यक्तित्व पर तेरह अध्याय लिखे गए हैं जो उनके कार्यों, उनके करीबी, विरोधियों एवं दूर के लोगों की प्रतिक्रियाओं और मोदी के भाषणों के विश्लेषण पर आधारित हैं। पुस्तक में मोदी को प्रधानमंत्री बनाए जाने के पक्ष में 101 कारण भी गिनाए गए हैं।

किताब की प्रस्तावना स्वंय मोदी ने लिखी है जबकि उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश और झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री क्रमश: कल्याण सिंह, प्रेम कुमार धूमल और अर्जुन मुण्डा, बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता सुशील कुमार मोदी. भाजपा के उपाध्यक्ष मुख्तार अब्बास नकवी, पार्टी प्रवक्ता डा. विजय सोनकर और अंग्रेजी दैनिक पायनियर के संपादक चंदन मित्रा के प्रशंसा संदेश पुस्तक में प्रकाशित किए गए हैं।

लेखक ने मोदी को लेकर समाज में फैले भय के संदर्भ में उनके सामाजिक दर्शन का उल्लेख करते हुए कहा है कि उनके ख्याल में मोदी को विशुद्ध तौर पर एक कारोबारी राजनीतिज्ञ कहना सही होगा। कारोबारी की विशेषता होती है कि वह किसी के बीच में लडाई झगड़ा पसंद नहीं करता। उसके लिए हर इंसान ग्राहक के समान है और पैसे देने पर वह किसी को भी सामान बेचता है। उसे जाति धर्म या संप्रदाय से कोई मतलब नहीं होता।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You