इंडियन मुजाहिद्दीन के निशाने पर 'यहूदी' और ‘गोरे लोग’ !

  • इंडियन मुजाहिद्दीन के निशाने पर 'यहूदी' और ‘गोरे लोग’ !
You Are HereNational
Thursday, February 27, 2014-4:35 PM

नई दिल्ली: राष्ट्रीय जांच एजेन्सी ने कहा है कि पाकिस्तानी स्कॉलर आफिया सिद्दिकी की रिहाई का सौदा करने के लिए इंडियन मुजाहिद्दीन ‘‘यहूदियों’’ और ‘‘गोरे लोगों’’ के अपहरण की योजना बना रहा था। आफिया अल-कायदा की कथित आतंकवादी है जिसे अमेरिका में 86 वर्ष कैद की सजा मिली है।  इंडियन मुजाहिद्दीन के सह-संस्थापक यासीन भटकल और उसके तीन सहयोगियों के खिलाफ दिल्ली की एक अदालत में दायर पूरक आरोपपत्र में राष्ट्रीय जांच एजेंसी(एनआईए) ने कहा है कि नेपाल में रूकने के दौरान यासीन ने आईएम के शीर्ष सदस्य रियाज भटकल से सिद्दिकी की रिहाई के बारे में चर्चा की थी। 

एनआईए ने कहा, ‘‘जांच से पता चलता है कि नेपाल में आरोपी ए-6 (यासिन भटकल) के रूकने के दौरान रियाज ने आफिया सिद्दिकी की रिहाई का सौदा करने के लिए यहूदियों के अपहरण का भी सुझाव दिया था।’’ सिद्दिकी पर अल-कायदा का आतंकवादी होने का आरोप है और अमेरिका में हत्या के प्रयास एवं पूछताछ के दौरान अमेरिकी अधिकारियों पर हमले के आरोप में 2010 में उसे 86 वर्ष कैद की सजा सुनाई गई थी।

एनआईए ने 277 पन्ने के अपने आरोपपत्र में कहा कि आईएम ने कुछ ‘‘धनी भारतीय कारोबारियों’’ के अपहरण की भी योजना बनाई थी।  पिछले वर्ष 6 अप्रैल को यासीन और रियाज के बीच इंटरनेट चैट का जिक्र करते हुए एनआईए ने कहा कि यासीन ने रियाज को सूचित किया था कि वे नेपाल के पोखरा में यहूदियों का आसानी से अपहरण कर सकते हैं।   एनआईए के मुताबिक भटकल आतंकवाद के करीब 40 मामलों में वांछित है और उस पर 35 लाख रूपये का ईनाम है।
 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You