नर्सरी एडमिशन में फर्जी के फेर में असली पैरेंट्स भी फंसे

  • नर्सरी एडमिशन में फर्जी के फेर में असली पैरेंट्स भी फंसे
You Are HereNational
Saturday, March 01, 2014-2:27 AM
नई दिल्ली : एक दिल्ली सरकार का शिक्षा विभाग है, दूसरा इंटर स्टेट ट्रांसफर के प्वाइंट हासिल करने वाले फर्जी पैरेंट्स। दोनों के फेर में कई अच्छे-भले पैरेंट्स पिस गए हैं। उन्हें नर्सरी एडमिशन में बराबर मौके नहीं मिल पा रहे हैं। पैरेंट्स का एक ग्रूप फिर से कोर्ट जाने की तैयारी कर रहा है। 
 
दरअसल, पैरेंट्स का कहना ह ै उन्होंने ट्रांसफर के लिए पांच प्वाइंट मांगे नहीं थे। विभाग ने खुद दिए थे। अब अंतिम वक्त में प्वाइंट हटाने से उनके बच्चे का एडमिशन मुश्किल हो गया है। क्योंकि पूरे ड्रॉ कैंसिल नहीं किए गए हैं। इसलिए सिर्फ बची हुई कुछ सीटों के लिए ड्रा होगा और उसमें एडमिशन की संभावना कम होगी।
 
वहीं पैरेंट्स अगर शुरू में 70 प्वाइंट के साथ ड्रॉ में हिस्सा लिए होते तो सीट के मुकाबले चांस अधिक होते। दूसरी ओर 70 प्वाइंट वाले कंफर्म पैरेंट्स को तो रखा गया है लेकिन वेटिंग लिस्ट वाले को फिर से ड्रॉ में जाना होगा। इसको लेकर भी लोगों में गुस्सा है। 
 
इसके अलावा पहले पैरेंट्स ने खुद के 75 प्वाइंट्स को ध्यान में रख कर कम ही स्कूलों में अप्लाई किया था। उन्हें दुबारा अप्लाई करने का अब मौका नहीं मिलेगा। इससे भी निराशा है। शिक्षा विभाग के सूत्रों के मुताबिक विभाग ने इन सब सवालों को जानते हुए फैसला लिया। 
विभाग ज् यादातर लोगों को फिर से पूरे ड्रॉ प्रक्रिया की परेशानी नहीं देना चाहता था। 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You