रेल पटरियों के नीचे दफन था अंग्रेजो के जमाने का कुआं

  • रेल पटरियों के नीचे दफन था अंग्रेजो के जमाने का कुआं
You Are HereUttrakhand
Monday, March 03, 2014-12:36 PM

हरिद्वार: रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नं. 7 से गुजर रही रेल पटरियों के नीचे एक गहरे कुंए का पता चला है। कुंआ अंग्रेजी शासनकाल के दौरान का बताया जा रहा है। शुक्रवार की रात हुई तेज बारिश में रेल पटरियों के नीचे मिट्टी धंस जाने पर कुंए का पता चला। करीब चालीस फीट गहरे कुंए में पानी भी मौजूद है। पुराना कुंआ मिलने की जानकारी मिलते ही उसे देखने के लिए भारी संख्या में लोगों की भीड़ प्लेटफार्म के समीप जुट गई। गनीमत रही कि इस दौरान पटरियों से कोई ट्रेन नहीं गुजरी वरना गंभीर हादसा हो सकता था।

कुंए की जानकारी मिलने पर मौके पर पहुंचे सीनियर सेक्शन इंजीनियर बी.एस.रावत, पी.डब्लयू.आई बी.एस.चौहान, रेल पथ पर्यवेक्षक दीपक बौराई आदि ने मौके पर पहुंचकर कुंए का निरीक्षण किया। बाद में रेल कर्मचारियों ने मलबा भरकर कुंए को बंद कर दिया। इस दौरान प्लेटफार्म की पटरियों पर रेल का संचालन बंद रहा। रेल पथ पर्यवेक्षक दीपक बौराई ने बताया कि कुंए के संबंध में सही जानकारी तो रिकार्ड देखकर ही बताई जा सकती है। लेकिन संभवतया अंग्रेजी शासनकाल के दौरान पेयजल की आपूर्ति के लिए कुंए का निर्माण किया गया होगा।

गौरतलब है कि 2010 के कुंभ मेले के पूर्व प्लेटफार्म नं.6,7,8 व 9 का प्रयोग मेलों व अन्य पर्वो पर भीड़ बढऩे पर अतिरिक्त ट्रेनों के संचालन के लिए किया जाता था। लेकिन 2010 के कुंभ मेले के बाद ट्रेनों की संख्या बढऩे पर रेलवे स्टेशन का विस्तार करते हुए इन प्लेटफार्मो से भी ट्रेनों का नियमित संचालन किया जा रहा है। 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You