गंगा के महत्व के चलते लोहारीनागपाल जैसे बांधों का काम रोक दिया: शिंदे

  • गंगा के महत्व के चलते लोहारीनागपाल जैसे बांधों का काम रोक दिया: शिंदे
You Are HereUttrakhand
Sunday, March 02, 2014-7:39 PM

ऋषिकेश: गंगा नदी की जन्म से लेकर मोक्ष तक की पूरी जीवनयात्रा का गवाह बताते हुए केंद्रीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने आज कहा कि इस नदी के महत्व को देखते हुए ही केंद्र सरकार ने लोहारीनागपाल जैसे बड़े बांधों पर काम रोक दिया है। यहां परमार्थ निकेतन आश्रम में चल रहे अन्तरराष्ट्रीय योग महोत्सव के दूसरे दिन बतौर मुख्य अतिथि अपने विचार रखते हुए शिंदे ने कहा कि गंगा नदी का जीवन के हर क्षण से जुड़ाव और लगाव है और केंद्र सरकार आम जनमानस और संतों की इस भावना से अच्छी तरह से अवगत है। उन्होंने कहा, ‘गंगा की स्वच्छता और हिमालई पर्यावरण की रक्षा के लिए हमारे सभी शंकराचार्य और संत महात्मा लगे हुए हैं। इसी भावना का सम्मान करते हुए केंद्र ने लोहारी नागपाल जैसे बड़े बांधों के निर्माण पर रोक लगा दी।’

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि गंगा नदी को लेकर केंद्र सरकार बहुत संवेदनशील है और गंगोत्री से लेकर गंगासागर तक इसकी स्वच्छता का ध्यान रखने के लिये गंगा रिवर बेसिन अथारिटी गठित की गई है। पिछले वर्ष के मध्य में उत्तराखंड में आई भीषण प्राकृतिक आपदा का जिक्र करते हुए शिंदे ने कहा कि इससे पूरे देश को धक्का लगा। उन्होंने कहा कि आपदा के दौरान वह खुद बद्रीनाथ, केदारनाथ और गंगोत्री क्षेत्रों में गए और वहां मची तबाही को खुद अपनी आंखों से देखा। मंत्री ने कहा कि उन्होंने आपदा से हुए नुकसान तथा पुनर्निर्माण की बाबत प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को एक रिपोर्ट सौंपी जिसके बाद उन्होंने प्रदेश को एक हजार करोड़ रूपये की सहायता स्वीकृत की।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You