<

दलाली के आरोपों के खुलासे के बाद एक और रक्षा सौदे पर रोक

  • दलाली के आरोपों के खुलासे के बाद एक और रक्षा सौदे पर रोक
You Are HereNational
Monday, March 03, 2014-8:46 PM

नई दिल्ली: एक के बाद एक कई विवादों से घिरे रक्षा मंत्रालय ने दलाली के आरोपों का खुलासा होने के बाद लंदन स्थित कंपनी रौल्स रौयस के साथ करीब 5000 करोड़ रुपये के रक्षा सौदे पर रोक लगाने का आज निर्णय लिया और इस कंपनी को काली सूची में रखने की प्रक्रिया भी शुरू कर दी।

उच्च पदस्थ सूत्रों ने रौल्स रौयस द्वारा हिंदुस्तान एयरोनोटिक्स लिमिटेड (एचएएल) को लड़ाकू विमानों के इंजनों एवं कलपुर्जों की आपूति पर रोक लगाने के निर्णय की पुष्टि करते हुए एक न्यूज एजेंसी को बताया कि एचएएल को इस कंपनी द्वारा भारत में (कमर्शियल सलाहकार) को दी गई राशि वसूलने के निर्देश भी दिए गए हैं।

इससे पहले मंत्रालय ने इस बात की पुष्टि की थी कि रौल्स रौयस कंपनी खुद यह मान चुकी है कि उसने भारत में कारोबार में सहायता लेने के लिए कमर्शियल सलाहकार की नियुक्ति की थी और एचएएल के साथ खरीद सौदों का (कुछ प्रतिशत) उसके लिए तय किया गया था।

समझा जाता है कि मंत्रालय ने एचएएल को यह निर्देश दिया है कि सलाहकार के लिए की गई इस अदायगी की वसूली की प्रक्रिया शुरू कर दी जाए। इसके साथ ही मंत्रालय ने रौल्स रौयस को काली सूची में रखने की प्रक्रिया भी शुरू कर दी है। इस कंपनी के काली सूची में जाने से वायु सेना पर गहरी चोट होने की आशंका है क्योंकि उसके एडवांस जेट ट्रेनरों और इस समय संचालन में चल रहे जगुआर विमानों रौल्स रौयस के इंजन ही इस्तेमाल किए जा रहे हैं।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You