<

दिल्ली में 3 सीटों पर दिख सकता है जाट आरक्षण का असर

  • दिल्ली में  3 सीटों पर दिख सकता है जाट आरक्षण का असर
You Are HereNational
Monday, March 03, 2014-11:41 PM
नई दिल्ली(धनंजय कुमार): लोकसभा चुनाव से ठीक पहले जाटों को आरक्षण देकर कांग्रेस पार्टी ने अपने बिगड़े खेल को सुधारने की पूरी कोशिश की है और चुनाव परिणाम में इसका असर दिख जाए तो आश्चर्य नहीं क्योंकि दिल्ली, हरियाणा, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, राजस्थान तथा हिमाचल प्रदेश समेत 9 राज्यों में जाटों का अच्छा दबदबा है।
 
जानकारों की मानें तो सरकार के इस फैसले से 9 राज्यों के 9 करोड़ से अधिक जाटों को फायदा होगा। ऐसे में आरक्षण के लिए वर्षों से संघर्ष कर रहे जाटों का रुझान कांग्रेस पार्टी की ओर बढऩे की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता।
 
खास बात यह है कि 70 सीटों वाली दिल्ली विधानसभा चुनाव में 43 से सीधे 8 सीट पर खिसकने वाली कांग्रेस को लोकसभा चुनाव में दिल्ली में 3 सीटों पर सीधा फायदा हो सकता है।
 
जिसमें दक्षिणी, पश्चिमी तथा उत्तरी-पश्चिमी लोकसभा सीटें शामिल हैं। यहां के 20 से अधिक विधानसभा सीटों पर जाटों की संख्या निर्णायक स्थिति में है। उत्तरी-पश्चिमी लोकसभा सीट भले ही आरक्षित हो लेकिन यहां के करीब आधा दर्जन विधानसभा सीटों पर जाटों का दबदबा है। दिल्ली में 10 प्रतिशत जाट मतदाता हैं और यहां के मतदाता पंचायती निर्णय को ही मानकर मतदान करते हैं।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You