ओपिनियन पोल में पारदर्शिता के लिए पत्र

  • ओपिनियन पोल में पारदर्शिता के लिए पत्र
You Are HereNcr
Tuesday, March 04, 2014-1:36 AM
नई दिल्ली :  चुनाव पूर्व होने वाले सर्वेक्षणों पर पारदर्शिता के लिए आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल ने मुख्य निर्वाचन आयुक्त वी एस संपत को पत्र लिखकर आग्रह किया है कि ओपिनियन पोल करवाने वाले संस्थानों और मीडिया के लिए स्पष्ट दिशानिर्देश होने चाहिए। केजरीवाल ने कहा है कि इससे ओपनियन पोल की विश्वसनीयता बनी रहेगी।
 
मुख्य निर्वाचन आयुक्त को लिखे पत्र में केजरीवाल ने कहा कि वह हाल ही में एक टेलीविजन चैनल द्वारा प्रसारित किए गए स्टिंग आपरेशन के सामने आने के बाद मुख्य निर्वाचन आयोग का ध्यान इस ओर आकर्षित करने के लिए यह पत्र लिख रहे हैं।
 
उन्होंने कहा कि वह नर्वाचन आयोग के उस फैसले का स्वागत करते है जिसमें चुनाव की अधिसूचना जारी होने के बाद से अंतिम दौर के मतदान तक ओपिनियन पोल की इजाजत नहीं देगा, केजरीवाल ने कहा कि आम आदमी पार्टी ओपिनियन पोल पर पूर्ण रोक के हक में नहीं है, लेकिन निर्वाचन आयोग से अनुरोध करती है कि ओपिनियन पोल्स के प्रसारण और प्रकाशन के लिए एक आचार संहिता होनी चाहिए।
 
आगे केजरीवाल ने कहा, ‘‘निर्वाचन आयोग इस संबंध में पहले ही सक्रिय है और उसने जनप्रतिनिधित्व कानून में बदलाव की मांग की है ताकि यह स्वतंत्र एवं निष्पक्ष चुनाव कराने में आने वाली ताजा चुनौतियों का सामना करने में सक्षम हो सके और आयोग के इन प्रयासों का स्वागत किया जाना चाहिए।’ 
 
उन्होंने कहा, ‘‘इस संदर्भ में मैं आयोग से एक बार फिर अनुरोध करूंगा कि वह अपने प्रयासों में तेजी लाए ताकि आने वाले लोकसभा चुनाव के दौरान किसी तरह के नियोजित प्रयासों को जनता को गुमराह करने का मौका नहीं मिल पाए।’’
 
इस पत्र के साथ केजरीवाल ने एक पत्र समाचार प्रसारण मानक प्राधिकरण (एनबीएसए) को लिखा है। जिसमें केजरीवाल ने मांग की है कि हाल में आए स्टिंग ऑपरेशन की पड़ताल की जाए और विश्वनीयता को बनाए रखने के लिए उच्च कदम उठाए जाए। 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You