बिहार की विकास दर में भारी गिरावट: मोदी

  • बिहार की विकास दर में भारी गिरावट: मोदी
You Are HereBihar
Friday, March 07, 2014-8:17 PM

पटना: बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी ने आज कहा कि भाजपा - जनता दल यूनाइटेड (जदयू) गठबंधन टूटने के बाद बिहार की विकास दर में तेजी से गिरावट आई है। मोदी ने यहां कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के विकास के तमाम दावे की पोल उनके ही आंकडों से खुल गई है। वर्ष 2012-13 में जहां बिहार की विकास दर 15.05 प्रतिशत थी। वहीं 2013-14 में यह तेजी से गिरकर 8.82 प्रतिशत हो गई है। उन्होंने कहा कि वित्तीय वर्ष 2013-14 की पहली तिमाही में ही जदयू-भाजपा गठबंधन टूट गया।

इस वित्तीय वर्ष में करीब ढ़ाई महीने ही भाजपा सरकार में रही। भाजपा नेता ने कहा कि वित्तीय वर्ष के बाद के महीनों में बिहार के आर्थिक विकास की दर में तेजी से गिरावट हुई। केन्द्रीय सांख्यिकी संगठन की ओर से जारी ताजा आंकड़े के अनुसार भाजपा शासित मध्य प्रदेश जहां मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने तीसरी बार जीत हासिल की है वहां उनके नेतृत्व में आर्थिक विकास दर वर्ष 2013-14 में 11.08 प्रतिशत हो गई। वर्ष 2012-13 में मध्यप्रदेश की विकास दर 9.89 प्रतिशत थी।

मोदी ने कहा कि वर्ष 2010-11 की 14.95 प्रतिशत आर्थिक विकास दर की तुलना में वर्ष 2011-12 में बिहार की आर्थिक विकास दर 9.58 प्रतिशत थी लेकिन पिछले वित्तीय वर्ष में यह खाई और ज्यादा बढ़ गयी है। इसी अवधि में अनेक राज्यों में जहां आर्थिक विकास दर की निरंतरता बनी रही वहीं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जो वित मंत्री का भी दायित्व संभाले हुए हैं। नीतीश कुमार के नेतृत्व में प्रदेश की आर्थिक विकास दर में सर्वाधिक गिरावट हुई है। उन्होंने कहा कि इससे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के विकास पुरूष होने का दंभ भी टूटा है।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You