बराबरी को तैयार हैं हम...

  • बराबरी को तैयार हैं हम...
You Are HereNational
Saturday, March 08, 2014-1:10 PM

दिल्ली में 53 लाख से ज्यादा महिलाएं करेंगी मतदान
नई दिल्ली: अप्रैल में होने जा रहे लोकसभा चुनाव में दिल्ली की 53 लाख से ज्यादा महिलाएं वोट डालेंगी। राजधानी की सबसे बड़ी लोकसभा सीट उत्तर-पश्चिम दिल्ली है और यहां बाकी 6 सीटों के मुकाबले सबसे ज्यादा महिला मतदाता हैं। उत्तर-पश्चिम सीट के लिए कुल 21 लाख मतदाता हैं, जिनमें महिला मतदाताओं की संख्या 9 लाख 37 हजार 73 हैं। महिलाएं भी अब वोट डालने में उत्साह दिखा रही है शायद यहीं वजह है कि पिछले साल हुए दिल्ली विधानसभा चुनाव में पुरुषों के मुकाबले महिलाओं का मतदान प्रतिशत मात्र एक प्रतिशत ही कम रहा था। महिलाओं ने बड़े उत्साह के साथ वोट डाला था।

उधर नई दिल्ली लोकसभा क्षेत्र में भी महिला वोटरों की संख्या अच्छी खासी है। यहां कुल 6 लाख 24 हजार 253 महिला मतदाता हैं। दक्षिण दिल्ली में भी महिला वोटरों की संख्या अच्छी है।

यहां से 7 लाख 1 हजार 982 महिला वोटर वोट डालेंगी। इस साल आम चुनाव में भारत के कुल 81 करोड़ 45 लाख 91 हजार 184 मतदाता अपने मत का प्रयोग करेंगे। इसमें से 2.8 प्रतिशत वोटर 18 साल के हैं। देशभर के पुरुष वोटरों की बात करें तो इस साल 58.6 प्रतिशत पुरुष मतदाता और 41.4 फीसदी महिला वोटर अपने मत को प्रयोग कर सकेंगे।

वहीं 18 साल के और पहली बार वोटर बने करीब सवा 2 करोड़ मतदाता पहली बार अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे। वर्ष 2009 में हुए दिल्ली विधानसभा चुनाव के दौरान दिल्ली में करीब 1 करोड़ 10 लाख वोटर थे, जिनकी संख्या अब बढ़कर 1 करोड़ 20 लाख के करीब पहुंच गई हैं। पिछले 5 साल में दिल्ली के वोटरों की संख्या में 10 लाख वोटरों की बढ़ौतरी हुई है।

जिन महिलाओं का वोटर आई.डी. कार्ड अभी तक नहीं बन सका है और उनका नाम भी मतदाता सूची में शामिल नहीं हुआ है वो 12 मार्च तक अपना वोटर आई.डी. कार्ड बनवा सकती है और मतदाता सूची में भी नाम दर्ज करवा सकती है। बुधवार सूची में नाम जुड़वाने का अंतिम दिन है। दिल्ली चुनाव आयोग 9 मार्च को विशेष एनरोलमैंट प्रोसैस चलाएगा और लोग अपने क्षेत्रीय बी.एल.ओ.  कार्यालय में जाकर अपना नाम सूची में दर्ज करवा सकते हैं। 


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You