MP: मन्दसौर में अफीम बनी एक बडा चुनावी मुद्दा

  • MP: मन्दसौर में अफीम बनी एक बडा चुनावी मुद्दा
You Are HereNational
Sunday, March 09, 2014-9:43 AM

नीमच: देश मे लोकसभा चुनाव का ऐलान होते ही नीमच मन्दसौर संसदीय क्षेत्र मे अफीम एक बडा चुनावी मुद्दा बन गई है। 16 लाख मतदाताओ वाले इस संसदीय क्षेत्र मे दुनिया की सबसे अधिक वैध अफीम की खेती होती है और करीब। लाख परिवार अफीम की खेती से जुडे है ये अफीम परिवार अपना झुकाव जिस राजनीतिक दल की ओर कर देते है जीत उसी की मानी जाती है। इसी को मद्देनजर रखते हुए राजनीतिक दल भी अफीम उत्पादक किसानो को साधने मे जुट गए है।

अफीम उत्पादक मालवा अंचल की मंदसौर संसदीय सीट पर अफीम उत्पादक किसान ही निर्णायक वोट बैंक की भूमिका मे रहते है जब जब भी लोकसभा चुनाव आते है तब इन किसानो से जुडे मुद्दो पर भी पार्टिया अपना खास ध्यान रखती है और इन्हे लुभाने ओर रिझाने के लिए हरसंभव प्रयास करती है। इस सीट पर ज्यादातर  भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का ही कब्जा रहा है लेकिन पिछले लोकसभा चुनाव मे कांग्रेस ने बाजी मारी थी और सांसद मीनाक्षी नटराजन बनी थी।

उन्होंने अपने चुनाव मे अफीम किसानो को लेकर कई वादे किए थे और वे जीत कर आई थी। इस बार जहां भाजपा अपनी पूरी ताकत यहा झोंकती नजर आ रही है। वही आप पार्टी भी इस बार मैदान मे है। ऐसे मे यहा के चुनाव बडे ही दिलचस्प हो गए।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You