<

60 फीसद महिलाएं बीच में छोड़ देती हैं कैरियर

  • 60 फीसद महिलाएं बीच में छोड़ देती हैं कैरियर
You Are HereNational
Sunday, March 09, 2014-9:57 PM

 नई दिल्ली : कार्यस्थलों पर महिलाओं को बेहतर परिवेश और समान अवसर दिये जाने की बढ़ती बहस के बीच विशेषज्ञों का कहना है कि निजी व पारिवारिक कारणों के चलते 60 फीसद महिलाओं को बीच में ही अपने कैरियर से नाता तोडऩा पड़ जाता है। 

 प्रवेश स्तर पर तो ज्यादातर कंपनियां महिलाओं की नियुक्ति व उनके प्रशिक्षण के लिए काफी काम करती हैं, लेकिन महिलाओं के मध्य प्रबंधन स्तर के पदों पर पहुंचने के बाद उन्हें नौकरी पर रोकने के लिए कंपनियों को काफी प्रयास करना पड़ता है। कार्यस्थल पर लिंग आधार पर संतुलन होने पर कंपनियों के प्रदर्शन, परिचालन नतीजों और अन्य चीजोंं मेें सुधार होता है। 

इस बारे में महिंद्रा समूह की कंपनी ब्रिसलकोन की उपाध्यक्ष रितु मेहरोत्रा का माना है कि  आने वाले समय में कंपनियों को ज्यादा महिला कर्मचारियों को लाने के लिए बेहतर कार्य व जीवन संतुलन बनाना होगा और साथ ही उन्हें बड़ी परियोजनाओं के लिए तैयार करना होगा। ग्लोबलहंट के प्रबंध निदेशक सुनील गोयल के मुताबिक निजी व पारिवारिक जिम्मेदारियों की वजह से 60 से 70 फीसद महिलाएं बीच में ही अपने कैरियर को छोड़ देती हैं।
 
या फिर उन्हें अपने संगठन में आगे बढऩे में पूरा समर्थन नहीं मिलता है ऐसे में भी वे नौकरी छोड़ देती हैं। 
विशेषज्ञों का कहना है कि ये प्रशिक्षित महिलाएं अपनी कंपनियों के लिए मूल्यवान होती हैं और उन्हें रोकने के लिए कंपनियों को प्रयास करना चाहिए।  
 
पीडब्ल्यूसी इंडिया कंसल्टिंग की लीड सत्यवती बेरेरा का कहना है कि संगठनों को निर्णय लेने की प्रक्रिया के सभी स्तरों पर महिलाओं और पुरुषों को समान भागीदारी  देनी चाहिए। 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You