‘पंजाब केसरी’ वीकली ओपिनयन पोल: मोदी और केजरीवाल में होगी बराबरी की टक्कर

  • ‘पंजाब केसरी’ वीकली ओपिनयन पोल: मोदी और केजरीवाल में होगी बराबरी की टक्कर
You Are HerePolitics
Monday, March 10, 2014-1:04 PM

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में इस बात पर फैसला नहीं हो पाया है कि वाराणसी सीट से कौन चुनाव लड़ेगा। मोदी के नाम की चर्चा चली तो आम आदमी पार्टी ने कह डाला कि अगर मोदी वाराणसी से लड़े तो केजरीवाल उनके सामने लड़ सकते हैं। इसी सवाल पर ‘पंजाब केसरी’ ने फेसबुक के माध्यम से एक रायशुमारी कराई। इसमें ज्यादातर लोगों ने यह माना कि दोनों ही लोग अपने-अपने हिसाब से बदलाव लाने की कोशिश कर रहे हैं और उन्हें स्वस्थ राजनीति करनी चाहिए। कुछ लोगों का मानना था कि केजरीवाल के लिए दिल्ली से बाहर अपना जादू चलाना आसान नहीं होगा जबकि कुछ लोगों का मानना था कि यह मुकाबला बराबरी का नहीं है।

1032704
लोगों ने इस पोल के प्रति रिस्पांस दिया
25375
लोगों ने इस पोस्ट को लाइक किया
21654
लोगों ने कमैंट दिए


लोगों के कमैंट
भले ही मोदी जीत जाएं लेकिन जरा यू.पी. में भाजपा नेताओं का हाल देखिए, जब यहां भाजपा की सरकार थी तो उन्होंने कौन-सा तीर मार दिए थे? हकीकत यह है कि भाजपा, सपा, बसपा और कांग्रेस, सभी पार्टियां निकम्मी हैं। ऐसे में अगर केजरीवाल को ही मौका दे दिया जाए तो क्या बुराई है?
- अमित चौरसिया, कानपुर

अगर कोई कहता है गुजरात में विकास हुआ है तो गुडग़ांव में भी तो विकास हुआ। कांग्रेस ने गुडग़ांव को बेच दिया तो मोदी ने गुजरात को बड़े-बड़े कारोबारियों के पास गिरवी रख दिया। इसलिए अपने आप को जगाओ और देश को बचाओ।
- अमित कुमार, नई दिल्ली

-वाराणसी में मोदी और केजरीवाल के बीच मुकाबला हुआ तो मोदी ही जीतेंगे, क्योंकि वाराणसी में दिल्ली की तरह आम आदमी नहीं बल्कि खास आदमी रहते हैं, जो राष्ट्रभक्त हैं।  
- महकार सिंह तोमर, बिजनौर


-केजरीवाल जब अन्ना के साथ आंदोलन कर रहे थे तो मैं तब से उनके साथ हूं लेकिन जब बात देश की आएगी तो और मुद्दा प्रधानमंत्री चुनने का होगा तो मैं नरेंद्र मोदी का साथ देना पसंद करूंगा। केजरीवाल अभी राजनीति में नौसिखिए हैं।
- बिनय शर्मा, नई दिल्ली


-मोदी अगर विकास का प्रतीक बन रहे हैं तो केजरीवाल भ्रष्टाचार के काल के रूप में नजर आते हैं। जीत किसी की भी हो लेकिन इसमें देश की हार होगी, क्योंकि देश को आज भ्रष्टाचार मुक्त विकास की बहुत जरूरत है। 
- इंजीनियर रोहित शर्मा, मुकेरियां


-केजरीवाल जी से प्रार्थना है कि अपने अहं के लिए देश को अस्थिरता की ओर न ले जाएं नहीं तो फिर कांग्रेस को बहाना मिल जाएगा कि स्थिर सरकार हम ही दे सकते हैं।
- केशव बंसल, नई दिल्ली

-जिस तरह गुजरात में अरविंद केजरीवाल के साथ हुआ यह सुनकर और देखकर हमें नहीं लगता कि केजरीवाल मोदी से आगे निकल पाएंगे।
- अभिषेक कुमार, नई दिल्ली

-हालांकि मुझे दोनों ही नेता पसंद हैं लेकिन मेरी इच्छा है कि केजरीवाल आगे निकलें, क्योंकि मैं व्यक्तित्व को राजनीतिक अनुभव पर वरीयता देता हूं।
- हरिंद्रजीत सिंह, चंडीगढ़

-मोदी और केजरीवाल में से कौन जीतेगा ये कहा नहीं जा सकता। सिर्फ यही कहा जा सकता है कि सिर्फ और सिर्फ भ्रष्टाचार का ही पलड़ा भारी है। पैसा फैंक तमाशा देख।
- अमित लूथरा, सिरसा

-जो आदमी आम आदमी के लिए लड़ रहा है, करप्शन के खिलाफ है। आज केजरीवाल की वजह से समाज को इन सब चीजों के बारे में समझ में आ रहा है। अरविंद जी आप आगे बढ़ो आम आदमी तुम्हारे साथ है।
- राम बहादुर, बिकोलिम, गोवा


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You