चारधाम यात्र: श्रद्धालुओं के अविश्वास को दूर करेगी सरकार!

  • चारधाम यात्र: श्रद्धालुओं के अविश्वास को दूर करेगी सरकार!
You Are HereNational
Monday, March 10, 2014-5:41 PM

देहरादून: पिछले वर्ष आई भीषण दैवीय आपदा से देश विदेश के पर्यटकों और श्रद्धालुओं में उत्तराखंड में सुरक्षा को लेकर पैदा हुए ‘अविश्वास’ को दूर करने हेतु राज्य सरकार आगामी दो मई से शुरू हो रहे यात्रा सीजन के लिए यात्रा नियंत्रण कक्ष की स्थापना, बायोमेट्रिक्स रजिस्ट्रेशन और एसएमएस अलर्ट जैसी व्यवस्थाएं शुरू करेगी।

प्रदेश के पर्यटन सचिव और चारधाम यात्रा के समन्वयक उमाकांत पंवार ने यहां संवाददाता सम्मेलन में बताया कि गत वर्ष जून में आई प्राकृतिक आपदा से न केवल जानमाल की भारी हानि हुई बल्कि देश विदेश के लोगों में उत्तराखंड में सुरक्षा को लेकर एक डर पैदा हो गया और इसे दूर करने के लिए हर संभव कदम उठाये जा रहे हैं।

पंवार ने कहा, ‘हम बताना चाहते हैं कि उत्तराखंड सरकार सुचारू, सुरक्षित और सुगम चारधाम यात्रा के लिए पूरी तरह तैयार है ।’इस वर्ष गंगोत्री और यमुनोत्री अक्षय तृतीया के दिन दो मई को खुलेंगे जबकि केदारनाथ के कपाट चार मई और बदरीनाथ के पांच मई को खोले जायेंगे। सिखों के धर्मस्थल हेमकुंड साहिब की यात्रा 25 मई को शुरू होगी।

उन्होंने कहा कि उत्तराखंड आने वाले यात्रियों को पर्यटन और चारधाम यात्रा संबंधी सभी प्रकार की जानकारी उपलब्ध कराने के लिए पर्यटन निदेशालय में एक चारधाम यात्रा नियंत्रण कक्ष बनाया जाएगा जो सुबह सात बजे से रात के नौ बजे तक संचालित होगा।
 
पर्यटन सचिव ने बताया कि इस कंट्रोम रूम से गढ़वाल मंडल के सभी जिलाधिकारियों के अलावा सभी विभागों के क्षेत्रीय कार्यालयों को भी जोड़ा जाएगा।  उन्होंने कहा कि यह राज्य में पहले से उपलब्ध आपदा नियंत्रण कक्ष से अलग होगा और यहां मौसम संबंधी जानकारी के अलावा होटलों में कमरों की उपलब्धता, निकटवर्ती अस्पताल, पैट्रोल पंप तथा एटीएम की स्थिति जैसी जानकारियां भी हासिल की जा सकेंगी।


विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You