सिविक सैंटर की सुरक्षा फिर राम भरोसे

  • सिविक सैंटर की सुरक्षा फिर राम भरोसे
You Are HereNational
Tuesday, March 11, 2014-11:28 PM
नई दिल्ली(सज्जन चौधरी): सुरक्षा के नाम पर खर्च 3 करोड़ 60 लाख, फिर भी सुरक्षा राम भरोसे। दिल्ली की हाईराइज बिल्डिंग निगम मुख्यालय डॉ. श्यामा प्रसाद सिविक सेंटर की सुरक्षा में लगे किसी भी सुरक्षाकर्मी के पास न तो चैकिंग के लिए हैंड डिवाईस है और न ही प्रवेश द्वारा पर मैटल डिटेक्टर लगे हैं। यहां तक की एक्स रे मशीन भी नहीं लगाई गई है। चार पहिया वाहनों से आने वालों की तो जांच ही नहीं की जाती। आईकार्ड दिखाते ही प्रवेश मिल जाता है। 
 
गाडिय़ों को चेक करने की कौन कहे, गाड़ी में आने वालों को सैल्यूट मारा जाता है। यहीं से निगम की सुरक्षा डांवाडोल हो गई है। ऐसा भी नहीं है कि निगम अधिकारियों को इसकी जानकारी न हो, बल्कि निगम की वजह से ही सुरक्षा व्यवस्था में चूक हो रही है। निगम के अधिकारी बस प्राईवेट एजेंसियों को लाभ पहुंचाने के लिए सरकार से सुरक्षा लेना नहीं चाहते हैं। सूत्र बताते हैं तत्कालीन निगमायुक्त केएस मेहरा ने सिविक सेंटर की सुरक्षा को लेकर योजना तैयार की थी।
 
इस योजना के तहत एक ऐसा एक्सरे मशीन लगाए जाने का प्रस्ताव था, जिसमें कार के भीतर बैठे-बैठै ही लोगों को स्कैन किया जा सके। बाकायदा एक प्राईवेट कंपनी ने एक्सरे मशीन का प्रजेंटेशन भी दिया था।
 
इसके साथ ही निगम ने सरकारी एजेंसी सीआईएसएफ  और पुलिस से भी सुरक्षा मांगी थी, लेकिन किन्हीं कारणों से निगम को यह सुरक्षा नहीं मिल सकी और इसी बीच निगमायुक्त रिटायर हो गए। उसके बाद से अब तक निगम ने कभी भी सुरक्षा के लिए कोई पहल नहीं की है। अब निगम एक बार फिर से प्राईवेट कंपनियों को सुरक्षा का ठेका देना चाहती है। बाकायदा इसके लिए टेंडर तैयार किया जा रहा है। 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में  निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You